+

Crime News : समलैंगिक रिश्ते के विरोध में हुए ब्लाइंड मर्डर को बीयर बारकोड ने ऐसे सुलझा दिया

UP Meerut Murder Mystery : उत्तर प्रदेश के मेरठ में एक ऐसा मर्डर हुआ जिसकी वजह जानकर पुलिस भी दंग रह गई. वैसे हत्या के इस मामले में पहले जिसे कातिल होने का दावा किया गया असल में वो था ही नहीं. बाकायदा उसके खिलाफ एफआईआर तक दर्ज करा दी गई.

लेकिन जब उसके खिलाफ कोई सुराग नहीं मिला और ना ही सबूत मिला. तब पुलिस ने हत्या की फिर से नए सिरे से जांच शुरू की. अब इसे ब्लाइंड मर्डर केस मानते हुए पुलिस ने घटनास्थल के आसपास के 150 से ज्यादा सीसीटीवी फुटेज खंगाले.

शक के आधार पर दर्जनों लोगों से पूछताछ की गई. लेकिन कोई सुराग नहीं मिला. फिर जहां उस व्यक्ति की लाश मिली थी वहीं पर बीयर की एक केन मिली थी. उसी बीयर केन के बार कोड के सहारे पुलिस ने इस मर्डर मिस्ट्री को सुलझा लिया.

13 मई को मिली थी लाश, पहले हत्या का शक किसी और पर था

Murder Mystery Crime News : मेरठ के परीक्षितगढ़ इलाके में आम के बाग में 13 मई 2022 को एक व्यक्ति की लाश मिली थी. सिर पर गोली मारकर उसकी हत्या की गई थी. घाव से पता चल रहा था कि सिर से सटाकर गोली मारी गई थी. आसपास के एरिया में लोगों से पूछताछ के आधार पर मरने वाली की पहचान 51 साल के इकलास सैफी के रूप में हुई.

परिवार के लोगों ने बताया कि वो घर से कहीं जाने की बात कहकर निकले थे लेकिन फिर नहीं लौटे. इस मामले में इकलास के बेटे फतेहखान ने हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई. आरोप लगाया कि पिता के दोस्त सादिक ने ही हत्या की होगी. क्योंकि 10 मई को ही सादिक उसके घर से हाई स्पीड बाइक ले गया था. उस बाइक की कीमत करीब 2.5 लाख रुपये थी.

इसलिए आशंका जताई कि सादिक उस बाइक को नहीं लौटाना चाहता होगा. इसलिए हत्या कर दी होगी. अब पुलिस ने घटना की एफआईआर लिखकर आरोपों के घेरे में आए सादिक को हिरासत में लिया. इसके बाद पूछताछ शुरू की. पर उसने बाइक दिखाकर पुलिस के सामने बता दिया कि आरोप और शक सरासर गलत हैं. इसके अलावा सर्विलांस से भी सादिक की लोकेशन घटनास्थल से दूसरे स्थान पर मिली. इसके बाद पुलिस ने फिर से मामले की तफ्तीश शुरू की.

आरोपी प्रियांशु बीए का स्टूडेंट है

बीयर बार कोड से ऐसे मिला कातिल का सुराग

Murder Mystery in Hindi : पुलिस ने बताया कि घटनास्थल से सुराग के नाम पर बस एक बीयर का कैन मिला था. उस कैन पर बारकोड (Beer Barcode Murder) होता है. बार कोड के सहारे उस दुकान की जानकारी मिल गई जहां से 13 मई को उसे बेचा गया था. फिर क्या था पुलिस ने बीयर की दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे की जांच की. कई घंटे की पड़ताल के बाद इकलास सैफी के साथ बीयर की दुकान में एक लड़का देखा गया.

उस लड़के की उम्र इकलास से करीब-करीब आधी थी. इसलिए पुलिस ने अब उस युवक की तलाश शुरू की. उसके हुलिये के आधार पर पूछताछ में पता चल गया कि युवक का नाम प्रियांशु उर्फ प्रयाग है. वो मेरठ के बहलोलपुर में रहता है.

इसके अलावा इकलास की कॉल डिटेल में भी उसका नंबर मिल गया. दोनों के वॉट्सऐप चैट से पता चला कि दोनों में लंबी बात होती थी. इसके बाद पुलिस ने प्रियांशु के पास पहुंची और पूछताछ शुरू की. जिसके बाद उसने हत्या की बात कबूल कर ली.

फेसबुक से हुई थी दोस्ती, समलैंगिक रिश्ते चाहता था इकलास

Crime News in Hindi : पुलिस ने बताया कि आरोपी प्रियांशु की उम्र करीब 21 साल है. घटना से 7 महीने पहले ही दोनों की जानपहचान फेसबुक पर हुई थी. फिर दोनों दोस्त बन गए और फोन पर बात करने लगे. प्रियांशु बीए की पढ़ाई कर रहा है. प्रियांशु ने इकलास को गोली मारने से पहले एक वीडियो भी बनाया था. उस वीडियो को दिखाया तो हत्या की पुष्टि भी हो गई. इसके बाद पुलिस ने उससे हत्या की वजह पूछी तो चौंक गई.

आरोपी ने बताया कि इकलास जबरन उसके साथ शारीरिक संबंध बनाना चाहता था. वो समलैंगिक जैसे संबंध बनाने के लिए दबाव बनाता था. इससे पहले, उसने खुद के पैसे से 12 मई की रात में दुकान से बीयर खरीदी थी. फिर उसे लेकर आम के बाग में आया था. यहां पर इकलास जबरन शारीरिक संबंध बनाना चाहता था.

प्रियांशु के मना करने पर नशे में जिद करने लगा तभी उसने गोली मारी थी. असल में इससे पहले भी वो कई बार ऐसा कर चुका था इसलिए उसे मारने की नीयत से पहले से ही तमंचा ले आया था. इसके बाद इकलास के माथे पर तमंचा सटाकर गोली मार दी थी.

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter