+

Moose Wala Murder: फॉरेंसिक रिपोर्ट के खुलासे से पुलिस परेशान, थार पर हुए थे इतने फायर

Sidhu moose Wala Murder: पंजाबी सिंगर (Punjabi Singer) मूसेवाला मर्डर मामले में फॉरेंसिक रिपोर्ट (Forensic Report) में सनसनीखेज़ खुलासा हुआ है, और उसी के बाद से पुलिस (Police) बेहद परेशान है।

Sidhu Moose Wala Murder: पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या (Murder) के मामले में फॉरेंसिंक रिपोर्ट (Forensic Report) में सनसनीखेज़ खुलासा हुआ है। सूत्रों के हवाले से मिली इस रिपोर्ट में जो कुछ भी कहा गया है, वो बेहद चौंकाने वाला है। इसके साथ ही इस रिपोर्ट की रोशनी में अगर देखें तो पुलिस (Police) की अब तक की जांच (Investigation) अभी आधा रास्ता भी तय नहीं कर सकी है।

फॉरेंसिंक रिपोर्ट हत्या के बारे में एक बात तो साफ करती है कि सिद्धू मूसेवाला की हत्या AK-47 और 30 बोर की 9 MM की गोलियों से की गई। और इस साइंटिफिक जांच से एक बात और साफ हो जाती है कि इस हत्याकांड में पांच से ज़्यादा पिस्तौल का इस्तेमाल किया गया।

हालांकि 29 मई को पंजाब के मानसा ज़िले में हुई इस हत्या के बारे में शुरु शुरू में कहा गया था कि सिद्धू मूसेवाला की हत्या के लिए रूस की बनी AN-94 एसॉल्ट राइफल का इस्तेमाल किया गया था। लेकिन फॉरेंसिक जांच बताती है कि इस शूटआउट में ये आधुनिक रूसी एसॉल्ट राइफल इस्तेमाल नहीं हुई।

मानसा ज़िले के जवाहरके गांव के पास हुए शूटआउट के बाद मौका-ए-वारदात का मुआयना करने के बाद पुलिस की फॉरेंसिक टीम ने जो नमूने उठाए...उसके मुताबिक सिद्धू मूसेवाला पर क़रीब 40 से 45 गोलियां फायर की गई थीं, जिनमें से सात गोलियां सिद्धू मूसेवाला को लगी। जबकि बाकी गोलियों के निशान उसकी थार गाड़ी और पास की दीवार पर लगी थी।

Forensic Report: इस फॉरेंसिक रिपोर्ट के इस खुलासे के बाद पुलिस की जांच टीम का अनुमान है कि सिद्धू मूसेवाला की हत्या में इस्तेमाल की गई पिस्तौल सभी की सभी विदेशी पिस्तौल थीं।

हालांकि पुलिस ने सिद्धू मूसेवाला मर्डर मामले में अब तक चार शूटरों को गिरफ्तार भी कर लिया है। और उनसे जो जानकारी उगलवाई है उसके मुताबिक सभी के सभी हथियार विदेशों से मंगवाए गए थे। लेकिन अभी तक पुलिस को इस मामले में हत्या की वारदात में शामिल एक भी हथियार बरामद नहीं हुआ है। पुलिस को अभी तक जो भी हथियार मिले हैं वो सभी रिजर्व हथियार थे, जिनका इस्तेमाल हत्या की वारदात में किया जाना था।

क्योंकि फॉरेंसिक रिपोर्ट ने अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं की है कि जो हथियार पुलिस शूटरों के पास से बरामद किए उन्हें ही सिद्धू मूसेवाला की हत्या के लिए इस्तेमाल भी किया गया था। हालांकि ये भी सही है कि सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद शूटरों की एक टोली ने फरार होने के रास्ते में एक वीडियो भी बनाया था जिसमें उन सभी ने गाड़ी में अपने हाथों में लेकर पिस्तौल लहराई थी।

Moose Wala Murder Update: ये बात खुद शूटर अंकित सिरसा और प्रियव्रत फौजी दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को बता चुके हैं कि शूट आउट के बाद मौके से फरार होने के बाद उन सभी ने हथियारों को किसी दूसरे शूटर को सौंप दिए थे। जिनके बारे में अनुमान लगाया जा रहा है कि शूटरों ने हत्या में इस्तेमाल हथियारों को कहीं ठिकाने लगा दिया।

ऐसे में ये भी कहा जा रहा है कि जब तक हत्या की वारदात में शामिल हथियार पुलिस बरामद नहीं कर लेती है तब तक उसकी जांच किसी मुकाम तक नहीं पहुँच पाएगी क्योंकि उसके बिना पुलिस कोर्ट में ये साबित नहीं कर सकेगी कि जिन शूटरों को पकड़ा है उन्होंने ही इस वारदात को अंजाम दिया। लिहाजा इस पुलिस फिलहाल टेक्नीकली बहुत बुरी तरह से उलझी हुई है और सिद्धू मूसेवाला के बाकी बचे शूटरों को पकड़ने के साथ साथ वो हथियार भी बरामद करने की कोशिश में है जिनका इस्तेमाल हत्या की वारदात में किया गया।

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter