+

Noida Murder: 'दृश्यम'की तर्ज पर दफनाई थी पति की लाश, बाथरूम में बनी कब्र का ऐसे खुला राज़

Noida Crime: नोएडा से क़त्ल (Murder) का एक सनसनीखेज़ क़िस्सा सामने आया है। ये क़िस्सा एक प्रेमी और प्रेमिका के साथ साथ एक मियां बीवी (Husband Wife) के बीच के नाजुक रिश्ते की दास्तां भी है। कहते हैं कि जब भी किसी रिश्ते में किसी तीसरे की दस्तक होने लगती है, तो दुश्वारियां भी खड़ी हो जाती हैं।

उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) में एक बीवी ने अपने ही प्रेमी के साथ मिलकर अपने हाथों से न सिर्फ अपने सुहाग का सिंदूर पोंछ दिया बल्कि ज़माने की नज़रों से खुद को बचाने और अपने जुर्म (Crime) को छुपाने के लिए घर के बाथरूम (Bathroom) में ही अपने शौहर की कब्र बना दी। और नज़रों को धोखा देने के लिए उस बाथरूम की कब्र को नई टाइल्स से ढक दिया।

ये किस्सा ग्रेटर नोएडा के बिसरख इलाके का है। और इलाके के पुलिस अफसर की बातों पर यकीन किया जाए तो नए साल की शुरूआत यानी 2 जनवरी से ही इस इलाके के सरस्वती कुंज में रहने वाले सतीश पाल का कहीं कोई पता नहीं चल रहा था। 8 जनवरी को सतीश पाल के भाई ने पुलिस में एक रिपोर्ट दर्ज करवाई।

शिकायत यही थी कि उनके भाई का 2 जनवरी से कहीं कोई अता पता नहीं मिल रहा है। लेकिन पुलिस उस शिकायत के उस हिस्से पर जाकर अटक गई जिसमें सतीश के भाई ने अपनी ही भाभी को नामजद करवाया और उन पर संदेह जाहिर किया।

Greater Noida Husband Killed: यानी रिपोर्ट के मुताबिक सतीश चंद्र कहां है और किस हाल में इसके बारे में अगर कोई जानता है तो वो कोई और नहीं बल्कि उसकी भाभी है। लेकिन इससे पहले बिसरख थाना के इंचार्ज इस मामले में अपनी तफ्तीश शुरु कर पाते, खुद सतीश पाल की पत्नी नीतू ने भी पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करवाई और अपने ही देवर को इसमें नामजद करवा दिया।

अब पुलिस बुरी तरह उलझ गई। क्योंकि उसके सामने एक ही शख्स के लापता होने की दो शिकायतें तो पहुँची लेकिन दोनों में ही अलग अलग लोगों पर शक जाहिर किया गया था। और इत्तेफाक से दोनों ही उस गुमशुदा शख्स के बेहद नजदीकी रिश्तेदार थे।

पुलिस ने तब दोनों नामजद को खंगालना शुरू किया। पुलिस ने दोनों ही नामजद लोगों के नंबरों को सर्वेलांस में डाला और उनकी कॉल डिटेल को खंगालना शुरू किया। कुछ देर की मशक्कत के बाद पुलिस को अपनी जांच को बढ़ाने का एक जरिया नज़र आया और उसने बाकी काम छोड़कर उसकी छानबीन तेज कर दी। इसका असर ये हुआ कि पुलिस को इस किस्से में नाजायज ताल्लुकात की बदबू महसूस होने लगी।

Greater Noida Murder Mystery: नीतू का मोबाइल खंगालते वक़्त पुलिस एक ऐसे नंबर तक जा पहुँची जिसने पुलिस का शक गहरा कर दिया। उसके मोबाइल में एक राजमिस्त्री हरपाल का नंबर झांकता मिला। पुलिस ने उसी नंबर के सहारे हरपाल को उठवा लिया। और जब उससे पूछताछ शुरू की तो उसने जो किस्सा सुनाया उसे सुनकर पुलिस भी चौंक उठी।

क्योंकि पुलिस ने जो सोचा था, क़रीब करीब हरपाल ने वैसी ही कहानी सुना दी थी। हरपाल ने पुलिस को बताया कि नीतू ने दो जनवरी की रात को सतीश चंद्र के खाने में नींद की गोली मिला दी थी। उस गोली के असर से सतीश चंद्र बेहोश हो गया।

तब नीतू ने हरपाल के साथ मिलकर उसी रात सतीश की हत्या कर दी। और फिर सतीश की लाश को हरपाल ने अपने दोस्त गौरव के साथ मिलकर घर के ही बाथरूम में गड्ढा करके दफ्न कर दिया। इतना ही नहीं, बाथरूम में बनी वो कच्ची कब्र किसी को नज़र न आए, इसके लिए उन लोगों ने रातो रात वहां नई टाइल्स भी लगा दी।

जब हरपाल ने अपने जुर्म का इकरार कर लिया तो पुलिस ने उसकी निशानदेही पर ही उसी बाथरूम से सतीशचंद्र का शव भी बरामद कर लिया। और फिर हरपाल के साथ नीतू को भी गिरफ्तार करके दोनों को जेल भेज दिया।

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter