+

MP Crime: बाबा के पास हत्या की गुत्थी सुलझाने पहुंचा दरोगा, वीडियो हुई वायरल तो हुआ सस्पेंड

छतरपुर से लोकेश चौरसिया की रिपोर्ट

Chhatarpur Crime News: ये चौंका देने वाला मामला छतरपुर जिले के बमीठा का है जहाँ के एक एएसआई अशोक शर्मा हत्या (Murder) का केस देख रहे थे। बड़ी कोशिशों के बाद दरोगा साहब इस केस (Case) को सुलझा नही पा रहे थे लिहाजा उन्होने तंत्र मंत्र (Tantra-Mantra) के जरिए केस सुलझाने की कोशिशें शुरु कर दीं। इसलिए ये दरोगा दतिया के पंडोखर सरकार के दरबार मे अर्जी लगाने पहुँच गए और बाबा पंडोखर सरकार से कहा कि बाबा केस सुलझा दो।

दरअसल ये कत्ल का मामला ओटा पुरवा में हरीराम अहिरवार की 17 वर्षीय बेटी का था।जिसका शव 28 जुलाई को कुएं में मिला था। मृतक के परिजनों ने गांव के युवक रवि अहिरवार, राकेश अहिरवार, अमन अहिरवार पर हत्या किए जाने के आरोप लगाए थे। इस मामले की पहेली सुलझाने के लिए एएसआई अशोक शर्मा बाबा पंडोखर सरकार के पास पहुंचा था।

जिस पर पंडोखर सरकार ने कहा कि कुछ नाम है उन नामों में से एक नाम को मैं ना बोलूं तो समझ लो वही कातिल है। बाकी नहीं है तुम्हारे रिकॉर्ड में दर्ज होंगे ध्यान से सुनना। रवि अहिरवार, राकेश,अमन, अब ढूंढ लेना कौन है। तुमने उन लोगों को उठाया है उनसे पूछा है उनमें से कोई एक है जिसका मैंने नाम नहीं लिया उससे ही रहस्य खुलेगा। तुम जितने नाम लिख कर लाए हो उनमें से एक नाम मैने नहीं बोला वहीं से कातिल का सुराग लगेगा।

बाबा से मिलने के बाद ये एएसआई अशोक शर्मा वापस अपने थाने पहुंचा और थाना प्रभारी को पूरी बात बताई जिसके बाद थाना प्रभारी ने उस व्यक्ति के परिजन को बुलाया जिसके बारे में पंडोखर सरकार ने बोला था और थाना प्रभारी पंकज शर्मा ने वीडियो दिखाते हुए 17 वर्षीय मृतिका संजना अहिरवार के चाचा तीरथ अहिरवार को आरोपी मान कर हिरासत में लेते हुए जेल भेजने की कार्यवाही शुरु कर दी।

जिसके बाद आरोपी पक्ष नें पुलिस कप्तान के पास पहुंच गया। एस पी साहब को बाबा और एएसआई का वायरल वीडियो दिखाया गया। तब जाकर पूरी बात साफ हुई और पता चला कि एक बाबा के कहने पर पुलिस अफसर ने कातिल को चुना था। एस छतरपुर ने एएसआई को सस्पेंड और थाना प्रभारी को लाइन हाजिर कर दिया।

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter