+

चीन में कोरोना ने कोहराम मचाना शुरू किया, मौत के बढ़ते आंकड़ों से डरने लगी है दुनिया

Corona Crises: क्या कोरोना फिर फैल जाएगा, क्या फिर से कोरोना की वजह से तबाही का मंजर सामने होगा, इस सवाल ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में इसलिए ले लिया क्योंकि चीन के हालात बेहद खराब हैं।

Corona Crises: कोरोना। किसी को डराने के लिए ये नाम ही काफी है। वाकई कोरोना एक बार फिर दुनिया (World) को डराने लगा है। क्योंकि चीन (China) के ताजा सूरतेहाल को देखकर दुनिया सहमने लगी है। चीन में कोरोना से बढ़ रहे मामलों की तेज रफ्तार और कोरोना से होने वाली मौतों के आंकड़े (Death Toll) ने अब दुनिया को बुरी तरह से दहशत में डाल दिया है।

चीन से सामने आ रही तस्वीरों और खबरों पर अगर गौर करें तो वाकई हालात डरावने होते नज़र आने लगे हैं। क्योंकि चीन में देखा जा रहा है कि वहां जीरो कोविड पॉलिसी के खत्म होते ही कोरोना मरीज़ों की संख्या दिन दूनी और रात चौगुनी रफ्तार से बढ़ती जा रही है।

तस्वीरें गवाह हैं कि चीन में अस्पतालों के सामने मरीज़ों की लंबी लंबी कतारें नज़र आ रही हैं जबकि मेडिकल स्टोर्स पर दवाओं की वकीम की वजह से लोगों को हैरान और परेशानी के आलम में भटकते देखा जा सकता है।

चीन की राजधानी बीजिंग का हाल तो बहुत बुरा है। हालात इस कदर बदतर हैं कि वहां अंतिम संस्कार के लिए भी अब लोगों को वेटिंग लिस्ट का सामना करना पड़ रहा है। चीन से आ रही खबरों पर यकीन करें तो वहां कोरोना मरीज़ों की संख्या दिनों के हिसाब से नहीं बल्कि घंटों के हिसाब से दोगुने और तीन गुने होते दिखाई पड़ने लगे हैं।

World Crime: बीते दिनों सोशल मीडिया पर चीन से बेहद डरावने वीडियो सामने आए हैं। इन वीडियोज़ में अस्पतालों और श्मशानों के साथ साथ दवा की दुकानों की तस्वीरें हैं जिन्हें देखकर वहां के बेहद खराब हालात का अंदाजा लगाया जा सकता है।

एक अमेरिकी अखबार में छपी खबर के मुताबिक अमेरिका विशेषज्ञों ने चीन को चेतावनी दी है कि अगले तीन महीनों में हालात और भी खराब हो सकते हैं और 70फीसदी आबादी कोरोना की चपेट में आ सकती है। लेकिन मौत का आंकड़ा एक मिलियन यानी 10 लाख से ज़्यादा की आशंका जाहिर की गई है।

अमेरिकी विशेषज्ञों का कहना है कि चीन की सरकार फिलहाल जिम्मेदारी से भाग रही है। जबकि वहां के बेबस लोग दवा इलाज के लिए मारे मारे घूम रहे हैं।

शायद ही कोई भूला हो जब साल 2020 में इसी तरह सर्दियों के दिनों से चीन में कोरोना के विस्फोट के बाद पूरी दुनिया इसकी चपेट में आ गई थी और ज़्यादातर मुल्कों को इस महामारी ने गहरी चोट दी थी।

चीन से सामने आई खबरों पर यकीन किया जाए तो इस वक़्त चीन में कोरोना की इस ताजा मामलों में ये पहली लहर की चपेट में है। जबकि आशंका जाहिर की गई है कि जनवरी के महीने में चीन दूसरी लहर की चपेट में होगा और उस वक़्त मौतों की गिनती और भी ज़्यादा बढ़ सकती है।

असल में चीन में इस वक़्त कोरोना के बढ़ने की सबसे बड़ी वजह वहां का वार्षिक त्योहार को माना जा रहा है। लूनर ईयर सेलिब्रेशन की वजह से चीन के लोग जबरदस्त जश्न मनाते हैं। जिसकी वजह से उनमें आपस में घुलने मिलने की परंपरा है। और कोरोना को फैलने के लिए ये सबसे बड़ा कारण होता है।

China Crime Story: इसी बीच अमेरिका की तरफ से आशंका जताई गई है कि कोरोना महामारी के इस तरह फैलने की एक वजह उसका नया वैरियंट हो सकता है। जिसके बारे में ज्यादा मालूमात नहीं है। लिहाजा ये वैरियंट इंसानी जिंदगियों के लिए और भी ज़्यादा खतरनाक हो सकता है।

अमेरिका की तरफ से इस बात की भी आशंका जाहिर की गई है कि हो न हो चीन अपने यहां हो रही मौतों को लेकर बहुत सी बातें और आंकड़ों को छुपा रहा हो।

इसी बीच ये सवाल भी उठ खड़ा हुआ कि अगर चीन में कोरोना फिर से खतरनाक तरीके से बढ़ता जा रहा है तो क्या भारत में भी ये इसी तेजी से अपना असर दिखा सकता है। कुछ विशेषज्ञों की राय कुछ अलग है जो भारतीयों को राहत दे सकती है।

बताया गया है कि चीन में कोरोना फैलने की एक वजह वहां वैक्सीन को लेकर लोगों का उदासीन रवैया है। साथ ही चीन की सरकार ने भी वैक्सीन को लगवानें के लिए लोगों को प्रेरित नहीं किया। इसके ठीक उलट भारत में ज़्यादातर लोगों को तीन डोज़ लग चुकी हैं। और देखा यही जा रहा है कि दुनिया में कोरोना के केस बढ़ते जा रहे हैं जबकि भारत में इस दौरान कोरोना के मामलों में तेजी से कमी देखी जा रही है।

विशेषज्ञों का यही मानना है कि भारत में लोगों के भीतर कोरोना का डर और कोरोना को लेकर सतर्कता ने इसे घातक होने से फिलहाल रोक रखा है। आने वाले समय में भी फिलहाल भारत में कोरोना के मामलों में तेजी की गुंजाइश कम ही देखी जा रही है।

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter