+

दुनिया की सबसे बड़ी डकैती: बैंक से लूटी रकम में इतने ज़ीरो थे कि गिनती कर गिनीज बुक में दर्ज हुआ

Real Story of Bank loot: ये सच्ची वारदात दुनिया के इकलौते और निहत्थे लुटेरों की ऐसी कहानी है जिसे सुनकर आज भी रोंगटे खड़े हो जाते हैं। ये दुनिया की अब तक की सबसे बड़ी बैंक डकैती है जो गिनीज बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स (Guinness Book Of World Records) में दर्ज हो गई। ये एक ऐसी लूट है जिसको लूटने वाला भी अजीब है। और उसका तरीक़ा भी उससे भी ज्यादा अजीब।

एक ऐसी डकैती जिसमें लूट की रकम ले जाने के लिए लुटेरों को कई ट्रकों का इस्तेमाल करना पड़ा। और दुनिया की ये सबसे बड़ी डकैती एक दो मिनट या एक दो घंटे नहीं बल्कि पूरे पांच घंटे तक चलती रही।

18 साल पहले हुई थी हैरतअंगेज लूट

BIGGEST MONEY HEIST FROM BANK: अब ज़रा इन रुपयों की गिनती करिए। 68,34,95,60,000 रुपये। कितने करोड़ हुए। थोड़ी दिक्कत हुई ना। अब जान लीजिए ये करोड़ नहीं बल्कि पूरे 68 अरब, 34 करोड़, 95 लाख, 60 हज़ार रुपये हैं। यही वो रकम है जो दुनिया की इस सबसे बड़ी और सबसे अनोखी के साथ साथ सनसनीखेज़ बैंक डकैती में लूटी गई थी। इस बैंक डकैती की एक और सबसे ख़ास बात ये है कि ये लूट बस एक दस्तख़त से अंजाम दे दी गई...और इसमें लूटी गई तमाम रकम का आज तक का पता ही नहीं चल सका।

18 साल पुराने इस जुर्म की दुनिया के सबसे हैरतअंगेज़ क़िस्सों में शुमार इस लूट की दास्तां को आज भी दुनिया के लोग बड़े चाव से न सिर्फ सुनते हैं बल्कि हैरत में पड़ जाते हैं कि आखि़र कैसे महज एक पर्चे के ज़रिए इतनी बड़ी बैंक डकैती डाली गई। और इस बैंक डकैती की सबसे दिलचस्प और चौंकाने वाला पहलू है इस बैंक का लुटेरा।

बग़दाद में सबसे बड़ी बैंक डकैती
Crime Ki Real Story Hindi: ये वाकया इराक़ की राजधानी बग़दाद का है। साल था 2003। ये वो दौर था जब इराक़ में सद्दाम हुसैन (SADDAM HUSSEIN ) की हुकूमत थी। और दुनिया का सबसे ताक़तवर मुल्क़ अमेरिका के साथ सद्दाम हुसैन की ठनी हुई थी। और सद्दाम को सबक सिखाने के लिए अमेरिका के साथ साथ दुनिया के ज़्यादातर मुल्क़ों ने उस पर पाबंदियां लगा रखीं थी। जिसकी वजह से इराक़ में बेहिसाब ग़रीबी और भुखमरी होने लगी थी।

यही वो दौर भी था जब सद्दाम हुसैन से बदला लेने के लिए अमेरिका अपने मित्र देशों के साथ मिलकर इराक़ पर हमला करने की तैयारी कर रहा था। तभी दुनिया को दहलाने वाली सबसे बड़ी बैंक डकैती की वारदात का क़िस्सा पूरी दुनिया में छा गया।

एक पर्ची से डाली डकैती

Real Crime Story in Hindi : मार्च के महीने में इराक़ की राजधानी बग़दाद में गर्मी ने दस्तक देनी शुरू कर दी थी, मगर मौसम खुशनुमा बना हुआ था। बग़दाद में मौजूद इराक़ के सेट्रल बैंक (CENTRAL BANK)में काम काज रोज़ मर्रा की तरह चल रहा था।

तभी एक शख्स तेज़ क़दमों से चलता हुआ बैंक के मुखिया के पास पहुँचा और उसे एक पर्ची थमा दी. उस पर्ची पर लिखी इबारत को देख कर बैंक अधिकारी के माथे पर पसीनें की बूंदे छलक उठी थीं। उसने अपने पास वो पर्चा लेकर पहुँचे शख्स की तरफ सवालिया अंदाज़ में देखा। बैंक प्रमुख के पास पहुँचे शख्स ने जो जवाब दिया, उसे सुनकर बैंक प्रमुख के होश उड़ गए क्योंकि बात ख़तरनाक थी और डर पैदा करने वाली भी।

होश उड़ाने वाली इबारत

Bank Loot Ki Real Story: पर्चे में लिखा हुआ था कि बैंक में रखी सारी करेंसी हिफ़ाज़त के लिहाज से फौरन बैंक से दूर किसी सुरक्षित स्थान पर ले जाया जाए, क्योंकि दुश्मन मुल्क किसी भी वक़्त हमला करके बैंक पर कब्जा कर सकते हैं और मुल्क की सारी रकम को अपने कब्जे में ले सकते हैं।

दरअसल ये ख़बर भी पूरे इराक़ में फैल चुकी थी कि सद्दाम हुसैन इस वक़्त खौफ़ में हैं और वो किसी भी सूरत में अपने पैसों को दुश्मन मुल्क के हाथ नहीं पड़ने देना चाहते थे। इस अफ़वाह की रोशनी में बैंक प्रमुख के पास सिवाय हां करने के कोई चारा नहीं था। लिहाजा उस सेंट्रल बैंक में रखी तमाम रक़म को बिना देरी किए बैंक से निकालकर सुरक्षित स्थान पर पहुँचाने की कवायद शुरू हो गई।

तीन ट्रकों में लादी लूट की रकम

Real Story Of Crime :बैंक के चेस्ट में रखी रकम जो अमेरिकी डॉलर और यूरो की शक्ल में थी, उसे ट्रकों में भरने का सिलसिला शुरू हो गया और क़रीब पांच घंटों तक ये सिलसिला चलता रहा। बैंक में रखी क़रीब 920 मिलियन डॉलर की रकम को तीन बड़े ट्रकों पर लादने में पांच घंटे लग गए।

चश्मदीदों का कहना है कि बैंक की चेस्ट में नोट की ढेरों गड्डियां मौजूद थी लेकिन ट्रकों में जगह ही नहीं बची थी। लिहाजा वो रकम को वहीं छोड़ दिया गया। और वो शख्स अपने साथ आए पांच लोगों और तीन ट्रकों को लेकर वहां से बड़े आराम से चला गया।

सद्दाम के बेटे ने लूटा बैंक

Real Crime Story: कुछ ही घंटों के बाद बैंक को पता चल गया था कि सद्दाम हुसैन की तरफ से ऐसा कोई भी फ़रमान नहीं निकाला गया था। यानी अब ये बात शीशे की तरह साफ हो गई थी कि बैंक लुट गया। और बैंक लुटने की ये ख़बर लाख कोशिशों के बावजूद छुपी न रह सकी। हालांकि उस पर्ची पर लिखी बात से एक बात सही साबित हुई, क्योंकि इस वारदात के कुछ ही रोज़ बाद अमेरिका ने इराक़ पर हमला भी कर दिया था।

लेकिन इराक़ के लोग उस वक़्त बेहद चौंक गए जब उन्हें इस लूट को अंजाम देने वाले शख़्स के बारे में पता चला। बैंक प्रमुख के पास सद्दाम हुसैन की पर्ची लेकर पहुँचने वाला शख्स कोई और नहीं बल्कि सद्दाम हुसैन का बेटा क़ुशै था।

गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज लूट

Biggest Bank Loot Real Crime Story: बैंक की तरफ से जब इस लूट की रकम का खुलासा किया गया तो उसे सुनकर दुनिया दंग रह गई। क्योंकि इससे पहले इतनी बड़ी रकम कभी भी किसी भी बैंक से नहीं लूटी गई थी। डकैती की ये वारदात देखते ही देखते पूरी दुनिया भर की सुर्खियों में छा गई। और इस सनसनीख़ेज़ लूट की वारदात को गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में रखा गया जो शायद आज भी कायम है।

इस लूट की सबसे ख़ास बात ही यही थी कि न तो इसमें कोई गोली चली न ही किसी हथियार का इस्तेमाल किया गया और न ही कोई खींच तान हुई...मगर दिन दहाड़े शहर के बीचो बीच देश के सबसे बड़े बैंक में खुलेआम डकैती पड़ गई और बैंक के लोग देखते रह गए।

Also Read: रियल हॉरर स्टोरी : 200 साल से इस हवेली में है रमिया बाई का ख़ौफ़, आती है घुंघरुओं की आवाज़

Also Read: वॉट्सऐप से सुपारी, जेल से मर्डर, कबूलनामा फेसबुक पर, लॉरेंस बिश्नोई की पूरी कहानी

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter