+

What is NSA?: क्या है NSA कानून, इसे कब लगाया जाता है?

What Is NSA: दिल्ली के जहांगीरपुरी (Jhangirpuri) में हनुमान जयंती के दिन हुई हिंसा के मामले में बड़ी कार्रवाई की गई है. हिंसा के पांच आरोपियों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) लगाया गया है. जिन आरोपियों पर NSA लगाया गया है उनमें अंसार, सलीम चिकना, इमाम शेख, दिलशाद और अहिद हैं.

NATIONAL SECURITY ACT 1980: इससे पहले मध्य प्रदेश के खरगोन में रामनवमी के दिन हुई हिंसा के मामले में दो आरोपियों पर NSA लगाया गया था. खरगोन हिंसा मामले में आरोपी मोहसिन और नवाज के खिलाफ NSA लगाया गया है.

राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (NSA)

NSA ACT In Hindi: राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम को बहुत सख्त कानून माना जाता है. इस कानून के तहत पुलिस किसी संदिग्ध व्यक्ति को 12 महीने तक हिरासत में रख सकती है. हिरासत में रखने के लिए बस इतना बताना होगा कि इस शख्स को जेल में रखा गया है. क्या है यह राष्ट्रीय सुरक्षा कानून और अपराधियों के खिलाफ कैसे किया जाता है इस्तेमाल, जानिए...

राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम क्या है? | What Is NSA?

राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (NSA) या राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (RASuka), एक ऐसा कानून है जिसके तहत किसी व्यक्ति को किसी विशेष खतरे के कारण हिरासत में लिया जा सकता है. अगर प्रशासन को लगता है कि किसी व्यक्ति की वजह से देश की सुरक्षा और सद्भाव को खतरा हो सकता है, तो ऐसा होने से पहले उस व्यक्ति को रासुका के तहत हिरासत में ले लिया जाता है.

कब लाया गया था ये कानून

यह कानून 1980 में देश की सुरक्षा के लिए सरकार को अधिक अधिकार देने के उद्देश्य से बनाया गया था. इस कानून का उपयोग पुलिस आयुक्त, डीएम या राज्य सरकार द्वारा किया जा सकता है. अगर सरकार को लगता है कि कोई व्यक्ति बिना किसी मतलब के देश में रह रहा है और उसे गिरफ्तार करने की जरूरत है तो उसे गिरफ्तार भी किया जा सकता है. कुल मिलाकर यह कानून किसी भी संदिग्ध व्यक्ति को हिरासत में लेने या गिरफ्तार करने का अधिकार देता है.

यह भी पढ़ें- WHAT IS COPYRIGHT ACT ? कॉपीराइट एक्ट क्या होता है?

क्या है इस कानून का इतिहास?

यह एक प्रिवेंटिव डिटेंशन कानून है, जिसका अर्थ है कि किसी भी घटना के होने से पहले संदिग्ध को गिरफ्तार किया जा सकता है. इस कानून का इतिहास ब्रिटिश शासन से जुड़ा है.

क्या है इस कानून का इतिहास?

जब भारत स्वतंत्र हुआ, तो 1950 में प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू की सरकार के तहत प्रिवेंटिव डिटेंशन एक्ट आया. इसका कार्यकाल 31 दिसंबर 1969 को समाप्त हुआ। 1971 में जब इंदिरा गांधी प्रधानमंत्री थीं, तब आंतरिक सुरक्षा रखरखाव अधिनियम यानी मीसा आया था. 1975 में आपातकाल के दौरान राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ इस्तेमाल किया गया.

कब लाया गया था NSA कानून

इस कानून में क्या प्रावधान हैं?

इस कानून के तहत किसी भी संदिग्ध व्यक्ति को बिना जमानत के 3 महीने तक हिरासत में रखा जा सकता है. जरूरत पड़ने पर इसकी अवधि 3 महीने और बढ़ाई जा सकती है.

इस कानून के तहत हिरासत में लिए गए व्यक्ति को 12 महीने तक जेल में रखा जा सकता है. संदिग्ध को हिरासत में रखने के लिए उसके खिलाफ आरोप तय करने की जरूरत नहीं है.

गिरफ्तारी के बाद राज्य सरकार को बताना होगा कि इस शख्स को जेल में रखा गया है और किस आधार पर गिरफ्तार किया गया है.

हिरासत में लिया गया व्यक्ति केवल उच्च न्यायालय के सलाहकार बोर्ड के समक्ष अपील कर सकता है. उसे वकील भी नहीं मिलता. जब मामला कोर्ट में जाता है तो लोक अभियोजक कोर्ट को मामले की जानकारी देता है.

सजा क्या है?

एनएसए के तहत हिरासत में लिए गए व्यक्ति को 3 महीने तक जेल में रखा जा सकता है. इसके बाद जरूरत पड़ने पर इसे 3 महीने के लिए बढ़ाया जा सकता है, लेकिन किसी भी सूरत में 12 महीने से ज्यादा जेल में नहीं रखा जा सकता है.

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter