+

Agnipath Recruitment 2022 : अग्निपथ योजना क्या है और क्यों है विवाद ?

अग्निपथ योजना क्या है ?

What is Agnipath Scheme ? : अग्निपथ योजना सेना की एक योजना, जिसके तहत सेना में भर्ती होगी। इस स्कीम में अधिकारियों से नीचे वाले रैंक के व्यक्तियों के लिए भर्ती होगी। इसमें 75% जवानों की भर्ती महज 4 साल के लिए की जाएगी। योजना के तहत भर्ती होने वाले सैनिकों को अग्निवीर कहा जाएगा। वहीं, केवल 25 फीसदी को ही अगले 15 वर्षों के लिए दोबारा सेवा में रखा जाएगा। इसके साथ ही नौकरी छोड़ते वक्त सेवा निधि पैकेज मिलेगा। अग्निपथ योजना के तहत युवाओं को पहले साल 4.76 लाख का सालाना पैकेज मिलेगा। चौथी साल तक बढ़कर ये 6.92 लाख तक पहुंच जाएगा। इसके अलावा अन्य रिस्क और हार्डशिप भत्ते भी मिलेंगे। चार साल की नौकरी के बाद युवाओं को 11.7 लाख रुपए की सेवा निधि दी जाएगी। इस पर कोई टैक्स नहीं लगेगा।

अग्निपथ योजना को सरकार ने क्यों निकाला और इससे उन्हें क्या फायदा होगा ?

इसकी वजह से सेना को करोड़ों रुपये की बचत भी हो सकती है। एक तरफ पेंशन कम लोगों को देनी पड़ेगी तो वहीं दूसरी तरफ वेतन में भी बचत हो जाएगी।

कौन कर सकता है अप्लाई ?

इस स्कीम के तहत सभी भारतीय अप्लाई कर सकते हैं। हालांकि, इसमें 17.5 से 21 वर्ष की आयु के पुरुषों और महिलाओं की भर्ती की जाएगी। चार साल बाद अग्निवीर रेगुलर कैडर के लिए अपनी मर्जी से आवेदन कर सकेंगे। योग्यता, संगठन की आवश्यकता के आधार पर उस बैच से 25 प्रतिशत तक का चयन किया जाएगा। शैक्षणिक योग्यता और फिजिकल स्टैंडर्ड भारतीय वायु सेना द्वारा जारी किए जाएंगे। अग्निवीरों को भारतीय वायुसेना में अप्लाई करने के लिए मेडिकल एलिजिबिलिटी से जुड़ी शर्तों को पूरा करना होगा।

अग्निवीरों को क्या क्या सुविधाएं मिलेंगी ?

अग्निवीरों को salary के साथ साथ हार्डशिप अलाउंस, यूनिफॉर्म अलाउंस, कैंटीन और मेडिकल सुविधा दी जाएगी।

अग्निवीरों को ट्रैवल अलाउंस भी मिलेगा।

उन्हें वही सुविधाएं मिलेंगी जो कि एयरफोर्स के एक नियमित सैनिक को मिलती है।

साल में 30 दिन की छुट्टी मिलेगी। उन्हें मेडिकल लीव अलग से दिया जाएगा। हालांकि, यह मेडिकल चेकअप पर निर्भर करेगा।

अग्निपथ योजना के तहत चयन प्रक्रिया 24 जून से शुरू हो जाएगी।

2022 के लिए अग्निपथ योजना के तहत इंडियन एयरफोर्स में भर्ती किए जाने वालों की उम्र सीमा बढ़ा कर 23 वर्ष कर दी गई है।

चार साल की सर्विस के दौरान अगर अग्निवीर की मृत्यु होती है तो बीमा कवर मिलेगा, जिसके तहत उसके परिवार को करीब 1 करोड़ की आर्थिक सहायता ​दी जाएगी।

अग्निवीरों को 30-40 हजार रुपये प्रतिमाह वेतन मिलेगा।

ड्यूटी के दौरान विकलांग होने पर एक्स-ग्रेशिया 44 लाख रुपये मिलेंगे।

साथ ही जितनी नौकरी बची है, उसकी पूरी सैलरी मिलेगी और सेवा निधि पैकेज भी मिलेगा।

अग्निवीरों का कुल 48 लाख का इंश्योरेंस होगा।

ड्यूटी में रहते शहीद होने पर एकमुश्त सरकार की तरफ से 44 लाख दिए जाएंगे और सेवा निधि पैकेज अलग रहेगा।

इसके अलावा जितनी नौकरी बची है उसकी पूरी सैलरी मिलेगी।

शेयर करें
Tags :
Whatsapp share
facebook twitter