+

Noida Lady Viral Video: गाली गलौज और धमकी देंगे तो जाना पड़ सकता है जेल, जुर्माना भी पड़ेगा भरना!

NOIDA : नोएडा में जिस तरह से श्रीकांत त्यागी और फिर दिव्या ने गालीबाजी की, उससे ये बहस छिड़ गई है कि असल में किसी को गाली देना कितना बड़ा अपराध है ? इसमें कितनी सजा मिल सकती है ? क्या ऐसे मामलों में सजा मिलती भी है या नहीं। केवल जुर्माना होकर ही ऐसे मामले निपट जाते है। तो आइए जानते है इसके बारे में

गाली देना क्या अपराध है ? Is abusing a crime?

इसका जवाब है हां। कानून की नजर में इसे पारिभाषित किया गया है। गाली देना मतलब अभ्रद व्यवहार करना। इसे भारतीय दंड संहिता की धारा 294 में पारिभाषित किया गया है। हालांकि ऐसे ज्यादातर मामलों में सुलह हो जाती है, लेकिन धारा 294 राजीनामे के योग्य धारा नहीं होती। इस धारा में दोनों पक्ष राजीनामा भी नहीं कर सकते क्योंकि गालियां देने से केवल पीड़ित को तकलीफ नहीं होती है बल्कि इससे लोगों को ठेस भी पहुंचती है।

कितनी सजा हो सकती है ?

इस धारा के तहत आरोपियों को 3 महीने तक की सजा हो सकती है। वैसे इस तरह के मामलों में आरोपियों को जेल में नहीं रखा जाता है, बल्कि जुर्माना भरवाया जाता है लेकिन मुकदमा कई वर्षों तक चलता है। आरोपियों को अदालत में हाजिरी के लिए जाना पड़ता है। जमानत भी लेनी पड़ती है।

इस तरह के मामलों का निजी जिंदगी पर क्या प्रभाव पड़ता है

हाल ही में नोएडा की दो सोसायटी में गाली गलौच के मामले देखे गए। जब तक ये मामला सोशल मीडिया पर नहीं है, तब तक शिकायतकर्ता और आरोपी दोनों को अदालत के चक्कर काटने पड़ते हैं। आरोपी को जमानत करानी पड़ती है। उसकी छवि को नुकसान पहुंचता है। समाज में उसकी बदनामी होती है। लेकिन अगर ये मामला सोशल मीडिया पर आ जाए तो आपकी करतूत के बारे में हरेक को पता चल जाता है। जिसको पता नहीं भी होना चाहिए, उसे भी आसानी से पता चल जाता है। लिहाजा ऐसे मामलों से दूर ही रहना चाहिए। इन मामलों में धमकियां देना भी आम बात होती है।

जान से मारने की धमकी देना संगीन अपराध

अगर गाली देने के साथ आपने धमकी भी दे दी तो आपका अपराध और गंभीर हो जाएगा रोडरेज में भी इस तरह की धमकियां लोग खूब देते हैं। अगर कोई भी इस तरह के विवादों में ऐसी धमकी देता है तो उसके खिलाफ तुरंत रिपोर्ट लिखवाकर कार्रवाई की जा सकती है।

7 साल तक की सजा

भारतीय दंड संहिता की धारा 506 स्पष्ट रूप से यह कहती है कि अगर धमकी जान से मारने की दी जा रही है तो ऐसा करना अपराध माना जाएगा और उस व्यक्ति को 7 वर्ष तक की सजा हो सकती है। मुकदमा बनाकर संबंधित मजिस्ट्रेट को भेजा जाएगा। हालांकि ऐसे मामलों में जमानत आसानी से मिल जाती है और फिर मुकदमा चलता रहता है, लेकिन ये भी निर्भर करता है कि जान से मारने की धमकी के साथ क्या दूसरा अपराध जुड़ रहा है। मसलन अगर गाली देने के अलावा आपने किसी को जान से मारने की धमकी दी, फिरौती की मांग की, या किसी अन्य मकसद से जान से मारने की धमकी दी तो सजा ज्यादा भी हो सकती है।

शेयर करें
Tags :
Whatsapp share
facebook twitter