+

भूतों का शहर! जहां इंसानों का जाना मना है

यूरोपीय देश साइप्रस के वरोशा शहर, जो कभी एक घनी आबादी वाला शहर हुआ करता था लेकिन लोगों को डर था इस शहर में भूत रहता है इसलिए रातोंरात इस शहर के लोग इसे खाली कर के चले गए। अब ये शहर कई सालों से यूंही वीरान पड़ा हुआ है, इसी लिए इस शहर को भूतों का शहर कहा जाता है। इस शहर से तमाम कहानियां जुड़ी हुई हैं जो इस शहर को भूतिया शहर कहने पर मजबूर करती है, यहां ऊंची-ऊंची इमारतें तो बनी हुई हैं, लेकिन यहां रहने वाला कोई नहीं है।

इस शहर में मौजूद होटल, रेजिडेंशियल इमारतों से लेकर बार और रेस्टोरेंट तक सब अब खंडहर में तब्दील होने लगे हैं। बता दें कि फमागस्ता प्रांत के वरोशा में एक छोटे से भूभाग को छोड़कर अब यहां के ज्यादातर बीच हमेशा-हमेशा के लिए बंद कर दिए हैं। फेंसिंग में कैद इस शहर के अंदर घुसना तो दूर की बात है, बाहर से अगर किसी ने तस्वीर भी लेने की कोशिश की तो उसे जेल की हवा खानी पड़ती है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 45 साल पहले इस शहर की आबादी करीब 40,000 थी, लेकिन साल 1974 में एक डर की वजह से पूरा का पूरा शहर रातोंरात खाली हो गया था। इस शहर से सटे बाकी शहरों में दिन-रात रौनक रहती है, लेकिन अब यह बिल्कुल वीरान पड़ा है। बात जुलाई 1974 की है, जब तुर्की सेना ने साइप्रस पर ग्रीस राष्ट्रवादियों के तख्तापलट के विरोध में हमला कर दिया था। जिसके बाद नरसंहार के डर से पूरा का पूरा शहर एक ही रात में खाली हो गया और यहां रहने वाले लोगों ने आस-पास के शहरों में जाकर शरण ले ली।

तुर्की के हमले की वजह से साइप्रस दो हिस्सों में बंट गया, जिसका नाम ग्रीस साइप्रस और तुर्की साइप्रस है। वरोशा शहर फिलहाल तुर्की सेना के कब्जे में है, यहां सिर्फ तुर्की की पेट्रोलिंग टीम ही आ सकती है। इसके अलावा यहां किसी को भी आने की इजाजत नहीं है, इतने सालों से खाली पड़े इस शहर को अब भूतिया शहर कहा जाता है।

Also Read: व्हाइट हाउस में भूतों के साथ रहता है एक राष्ट्रपति का भी भूत! चौकाने वाला खुलासा

Also Read: तंत्र-मंत्र की रहस्यमयी दुनिया की सबसे हसीन तांत्रिक

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter