+

काबुल एयरपोर्ट पर अभी और भी आतंकी हमले हो सकते हैं

Kabul airport पर फिर से attack होने की आशंका, अबतक दो फियादीन हमलों समेत 3 bomb blast हुए, rescue operations जारी रहेंगे। For Afghanistan news in Hindi and top crime stories visit Crimetak.in

दो फियादीन हमलों समेत 3 धमाकों से दहलने के बाद काबुल एयरपोर्ट को अभी भी आतंकी हमले हो सकते हैं। ये जानकारी दी है अमेरिका ने। अमेरिकन ब्रॉडकास्ट कंपनी (ABC) के मुताबिक एयरपोर्ट के नॉर्थ गेट पर कार से बम ब्लास्ट का खतरा है।

ऐसे में काबुल में अमेरिकी दूतावास ने एक नया अलर्ट जारी किया है। साथ ही अमेरिका ने कहा है कि वो काबुल से लोगों का निकालने का सिलसिला जारी रखेगा।

आपको बता दें कि अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के हामिद करजई इंटरनेशनल एयरपोर्ट से कुछ ही दुरी पर गुरुवार यानी 26 अगस्त को दो फिदायीन हमले हुए। एक अमेरिकी अखबार के मुताबिक इन धमाकों में 100 लोग मारे गए हैं और 200 से ज्यादा जख्मी हैं।

मरने वालों में अमेरिका के 12 मरीन कमांडो शामिल हैं, जबकि 15 घायल हैं। इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन ISIS के खुरासान संगठन ने ली है। इन ख़तरनाक फियादीन हमलों के बाद काबुल एयरपोर्ट से तमाम फ्लाइट और लोगों को निकालने का ऑपरेशन्स फिलहाल बंद कर दिए गए हैं।

काबुल एयरपोर्ट इन हमलों को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा कि अमेरिकी सैनिकों की मौत बेहद दुखद है, दूसरों की जान बचाने में अमेरिकी सैनिकों का बलिदान हम कभी भूलेंगे नहीं और न ही हमलावरों को माफ करेंगे। हम आतंकियों को ढूंढ़कर मारेंगे, सैनिकों के परिवारों के साथ हमारी संवेदनाएं हैं। हम अफगानिस्तान से अमेरिकी नागरिकों को निकालेंगे और अपने अफगान सहयोगियों को भी बाहर निकालेंगे। इतना ही नहीं बाइचेन ने कहा कि हमारा मिशन जारी रहेगा और जरूरत पड़ने पर और भी फौज भेजेंने के लिए तैयार हैं।

काबुल एयरपोर्ट पर धमाके के बाद जो बाइडेन के इस बयान पर डोनाल्ड ट्रम्प की रिपब्लिकन पार्टी के सीनेटर और पूर्व प्रवक्ता डेन क्रेनशॉ ने प्रेसिडेंट बाइडेन पर निशाना साधा। उन्होंने कहा- मिस्टर प्रेसिडेंट अब इस मामले को संभालिए जिसको आपने ही खड़ा किया है। इससे भागने की कोशिश मत कीजिए। आपके हाथ खून से रंगे हुए हैं। हम अब भी जंग के मैदान में हैं। इसे युद्ध का अंत समझने की गलती मत कीजिए। आपने दुश्मन को एक और फायदेमंद मौका दिया है। इसी के साथ पाकिस्तान का असली चेहरा उजागर करते हुए तालिबान ने कहा है कि पाकिस्तान उनका दुसरा घर है। तालिबानी प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने पाकिस्तानी न्यूज चैनल से हुए बातचीत में कहा है कि पाकिस्तान उनके संगठन (तालिबान) के लिए दूसरे घर जैसा है। अफगानिस्तान की सीमा पाकिस्तान से लगती है और धार्मिक आधार पर भी दोनों देशों के लोग एक-दूसरे से घुले-मिले हुए हैं। इसलिए हम पाकिस्तान से रिश्ते और मजबूत करना चाहते हैं।

साथ ही भारत के बारे में बात करते हुए जबीउल्लाह ने कहा कि वो भारत के साथ भी अच्छे रिश्ते चाहता है।उसने कहा कि हमारी बस ये इच्छा है कि भारत अफगानियों के हितों के हिसाब से ही अपनी नीतियां तय करे। तालिबान प्रवक्ता ने कश्मीर को लेकर भारत को सकारात्मक रुख अपनाने की नसीहत दी। उसने कहा कि दोनों देशों के हित एक-दूसरे से जुडे हुए हैं, इसलिए हर विवादित मसलों को उन्हें मिल बैठकर सुलझाना चाहिए।

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter