+

तालिबान अब प्रदर्शन कर रही महिलाओं को ढूंढ-ढूंढ कर मारेगा

अफ़ग़निस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद वहां पर अब उनका राज है. अफ़ग़निस्तान के सत्ता पर तालिबान का नियंत्रण करते ही वहां की महिलाओं की स्थिति बेहद ही खौफनाक हो गई है उन पर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए गए हैं ऐसे में अपने अधिकारों के लिए सैकड़ों महिलाओं ने सड़कों पर मार्च करना शुरू किया विरोध प्रदर्शन के कुछ दिनों के बाद ही तालिबानियों ने कई महिलाओं को जमकर पीटा जिसकी कई तस्वीरें वीडियो सोशल मीडिया पर न्यूज़ चैनलों में आम है.

अफ़ग़ानिस्तान ऐसा ही एक और हैरान करने वाला मामला सामने आया है अफ़ग़निस्तान में जहां पर 3 बच्चों की मां की बेरहमी से हत्या कर दी गई 30 साल की इस महिला का नाम फ़रवा है. फ़रवा को तालिबान के आतंकियों ने जान से मारने की धमकी दी थी धमकी के बाद भी वो कई और महिलाओं के साथ विरोध करने के लिए सड़कों पर उतर आई थी.

2 दिन बाद ही तालिबानी के लड़ाकों ने उनकी बेरहमी से जान ले ली. द गार्जियन आतंकियों ने उसे क्रूर मौत दी. अफगानों के सड़क पर मारे जाने या उनके घरों में हमला करने का यह एक और उदाहरण है.

आतंकियों के अफगान के सड़कों पर इस तरीके से यूं गोली मार दिए जाने का यह पहला मामला नहीं है इससे पहले भी कई लोगों को को इसी तरीके से खौफनाक मौत दी जा चुकी है. यही वजह है कि तालिबान शासन की अराजकता से पीछा छुड़ाने के लिए लाखों लोग अफगानिस्तान छोड़कर किसी और देश में बस जाना चाहते हैं.

एक विदेशी वेबसाइट से बात करते हुए फरवा के भाई रूहुल्लाह हुसैनी ने कहा कि उनकी बहन शुक्रवार को अपने घर में थी तभी उसने किसी को मदद के लिए चिल्लाते हुए सुना. पति के बार-बार रोकने के बावजूद फरवा आपने 6 महीने के बच्चे को गोद में लेकर मदद के लिए बाहर चली गई जहां उसका 3 साल का बेटा भी पीछे पीछे दौड़ता हुआ पहुंच गया. बाहर तालिबानी आतंकवादी लोगों को मार रहे थे. उसी दौरान तालिबानियों ने फरवा की भी नृशंस हत्या कर दी.

फरवा के मारे जाने के बाद उसके पति ने अपने तीन साल के बच्चे को ये कहकर उसके शव से दूर किया कि वह सो रही है. उसने इसके बाद जल्दी से पत्नी की लाश को ढंक दिया. हालांकि उसका 6 साल का बेटा जरूर ये समझ गया कि उसकी मां को मार दिया गया है.

हुसैनी ने कहा कि तीन साल का बच्चा अपने पिता से पूछता रहता है "मां कब उठेगी?" और छह महीने के बच्चे को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है क्योंकि वह लगातार मां के लिए रो रहा है. अस्पताल में बच्चा कुछ नहीं खा रहा है.

हुसैनी ने बताया कि वो अपनी बहन की तस्वीरें भी नहीं दे सकता क्योंकि उनके बहनोई हत्या के बाद से सदमे की स्थिति में हैं. उन्होंने कहा, "हम नहीं जानते कि मेरी बहन को किसने गोली मारी, लेकिन व यानी की तालिबानी बहुत गुस्से में थे, वे हर जगह दौड़ रहे थे और लड़ाई शुरू करने की कोशिश कर रहे थे. हम यह पता लगा रहे हैं कि यह किसने किया लेकिन अब बदला लेने का समय नहीं है."

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter