+

काबुल एयरपोर्ट पर हमले ने दुनिया के सबसे बुरे सपने को सच साबित कर दिया, TALIBAN और ISIS-K की दुश्मनी की INSIDE STORY

ISIS-K के काबुल पर हमले ने Taliban के साथ उसकी दुश्मनी का काला चेहरा सामने लाया, ISIS-K सारी दुनिया में इस्लाम का राज कायम करना है, Read more crime news stories and crime news in Hindi on CrimeTak

क्या अफ़ग़ानिस्तान आतंकवादियों के बीच जंग का मैदान बनने जा रहा है?.क्या अफ़ग़ानिस्तान में आतंकियों के बीच होड़ शुरू हो चुकी है?. ये वो सवाल है जो आज पूरी दुनिया के ज़हन में है.क्योंकि काबुल में हुए सिलसिलेवार धमाकों में एक बड़ा संदेश छिपा है.ये धमाके बता रहे हैं कि दुनिया को सिर्फ लश्कर-ए तैय्यबा, जैश-ए-मोहम्मद या फिर बस तालिबान से ही खतरा नहीं है. ब्लकि ISIS पहले की तरह अभी भी खतरा बना हुआ है. जिसके हमले की भनक अमेरिका को पहले ही लग चुकी थी.

Afghanistan-Taliban Crisis : आतंकी संगठन है तालिबान, FACEBOOK, INSTAGRAM और WHATSAPP पर बैन : फेसबुक प्रवक्ता

ये बात हम इसलिए बोल रहे है क्योंकि काबुल में सीरियल ब्लास्ट से कुछ घंटे पहले ही अमेरिकी विदेश मंत्री ने दुनिया को बता दिया था कि काबुल दहल सकता है. जो शाम होते-होते सच साबित हो गया. मगर बड़ी बात ये है कि अमेरिका और उसके सहयोगी देशों की तरह तालिबान ने भी इन हमलों के लिए ISIS- K का नाम लिया.तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद्दीन ने काबुल में हुए धमाकों के लिए ISIS- K को दोषी ठहराया.तालिबान ने भी दावा किया कि उसने अमेरिका को पहले ही ISIS-K के इरादों के बारे में बता दिया था कि वो काबुल एयरपोर्ट को निशाना बना सकता है

TALIBAN 2.0 : तालिबान ने बनाया 12 सदस्यों का काउंसिल, अमेरिका का मोस्ट वॉन्टेड आतंकी भी शामिल, 50 लाख डॉलर का है इनाम

अब आप यहां पर सोच रहे होंगे कि जो तालिबान दुनिया के हर छोटे बड़े आतंकवादी संगठनों से जुड़ा हो.वो ISIS-K पर उंगली क्यों उठा रहा है. इस सवाल का जवाब ये है कि तालिबान और ISIS-K एक दूसरे के दुश्मन हैं. तालिबान का प्रभाव अफगानिस्तान में है. वहीं ISIS-K भी अफगानिस्तान से फैलकर बगदादी के खुरासान स्टेट के सपने को पूरा करना चाहता है.

असल में ISIS-K तालिबान की तरह किसी राजनीतिक एजेंडा में यकीन नहीं रखता. उसका मानना है कि तालिबान जो कर रहा है काफी नहीं है. इसलिए वो तालिबान से भी ज्यादा कट्टर और खूंखार है. इसीलिए अफगानिस्तान में उसने अपने प्रभाव वाले इलाकों में बहुत ही सख़्त शरिया कानून लागू कर रखा है, और जो भी शरिया कानून को मानने से इनकार करता है, या फिर उसकी नज़र में उसका उल्लंघन करता है तो ISIS-K उसे बहुत ही क्रूर सजा देता है, और यही बात ISIS-K को तालिबान से भी ज्यादा खतरनाक आतंकवादी संगठन बनाती है. जो तालिबान की तरह किसी भी तरह के राजनीतिक समाधान में यकीन ही नहीं रखता.उसका मकसद सारी दुनिया में इस्लाम का राज कायम करना है.

ESCAPE FROM TALIBAN जब भारत की बेटी ने उतारा तालिबान को मौत के घाट

तो अब लौटते है काबुल में हुए धमाके पर, तो ISIS-K ने काबुल में धमाके करके ये जता दिया कि वो आने वाले वक़्त में इससे भी बड़े आतंकवादी हमलों को अंजाम दे सकता है. भले ही उसे महिलाओं और छोटे-छोटे बच्चों का खून ही क्यों न बहाना पड़े. वैसे इन धमाकों से पहले तालिबान ख़ुद को बदला हुआ आतंकवादी संगठन साबित करने में लगा था. जो अपनी ज़मीन का इस्तेमाल किसी देश के ख़िलाफ नहीं होने देगा.

लेकिन काबुल में हुए धमाके ने बता दिया है कि पाकिस्तान की तरह वहां पर आतंक की जड़ें बहुत गहरी हैं. लेकिन यहां पर अब एक सवाल उठता है कि अगर तालिबान और ISIS-K में खुद को ज्यादा खूंखार आतंकवादी संगठन साबित होने की होड़ मची तो क्या होगा. अगर दोनों आतंकवादी संगठन आमने-सामने आए तो उसका अंजाम क्या होगा.

Kabul Blast : काबुल एयरपोर्ट के बाहर 2 धमाकों में 4 अमेरिकी सैनिकों समेत 40 की मौत, 120 से ज्यादा घायल, ISIS खुरासन पर शक़

इस सवाल पर जानकारों का जवाब है कि ISIS-K के पास भले ही तालिबान से कम आतंकवादी हों. ताकत-प्रभाव के मामले में वो तालिबान से कमजोर हो. लेकिन उसकी कट्टर सोच के चलते उसमें शामिल आतंकवादी ज्यादा खूंखार और खतरनाक हैं.

जो मौका आने पर फिदायीन हमलों से अफगानिस्तान समेत सारी दुनिया में कहीं भी हमला कर सकते हैं. काबुल एयरपोर्ट पर हमले ने दुनिया के सबसे बुरे सपने को सच साबित कर दिया है. क्योंकि अगर तालिबान और ISIS-K में वर्चस्व की लड़ाई हुई तो उसका सबसे ज्यादा ख़ामियाज़ा अफ़ग़ानिस्तान के लोगों को ही भूगता पड़ेगा.

काबुल में हुए धमाकों में 100 की मौत की सूचना, 12 अमेरिकी मरीन कमांडो की भी मौत, ISIS ने ली जिम्मेदारी, अमेरिका बोला-नहीं छोड़ेंगे
शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter