+

तालिबान ने दी मसूद को सबसे बड़ी चोट, नहीं रहे NRF के प्रवक्ता फहीम दश्ती

national resistance front Spokesperson fahim dashati is no more

अफगानिस्तान में तालिबान कब्जे के साथ ही, एक मात्र पंजशीर प्रांत उसकी पकड़ से दूर बचा है. लेकिन 5 सितंबर की रात पंजशीर के हर समर्थक के लिए एक मातम का रात बन कर आई. मातम जिसने अब तक रूस और अमेरिका जैसी महाशक्तियों से अजय रहे पंजशीर को एक गहरा झटका दे दिया.

दरअसल अफगानिस्तान की पंजशीर घाटी में पाकिस्तान ने फिर एक बार नापाक हरकत की है. हाल में आई रिपोर्टस के अनुसार पंजशीर में पाक एयरफोर्स ने ड्रोन के जरिए हवाई हमला किया है. हमले के बाद से ही तालिबान यह दावा कर रहा है कि उसने पंजशीर घाटी पर कब्जा कर लिया है.

इतना ही नहीं पाकिस्तान वायुसेना द्वारा किये गए ड्रोन अटैक में National Resistance Front के प्रवक्ता और अहमद मसूद के सबसे भरोसेमंद इंसानों में से एक, फहीम दश्ती की मौत हो गई.

इस बात की जानकारी देते हुए अफगानिस्तान के सांमगन राज्य के पूर्व सांसद ने अपने ट्वीटर एकांउट पर लिखा की पंजशीर में पाकिस्तानी की वायुसेना ने ड्रोन के जरिए हमला किया है.

साथ ही अफगानिस्तान मीडिया ने भी इस बात की पुष्टि की, घाटी में लड़ाई के दौरान ही दश्ती की मौत हो गई. इसके साथ ही नेशनल रेसिसटेंट फंट्र के फेसबुक पेज में भी दश्ती की मौत की जानकारी दी गई.

बता दें की फहीम दश्ती एक शांति प्रिय शख़्स थे जिन्होंने कहा था कि हमारा उद्देश्य तालिबान से लड़ाई करना नहीं है. हमारे प्रयास तालिबान से शांति वार्ता और उन्हें एक साथ लाने का हैं.

यही बात हाल में सूबे यानी पंजशीर के प्रमुख अहमद मसूद ने भी कही थी यदि तालिबान पंजशीर और में अपने लड़ाई को समाप्त करेगा तो हम उससे शांती के साथ बात करेंगे.

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter