+

तालिबान के खौफ में अपराधी भी छोड़ रहे देश

Afghanistan में तालिबान का इतना ख़ौफ़ हो चुका हैं की अपने देश से भाग कर यहाँ छुपे criminals अब अपने देश लौटने की जल्दी में, Australia से भागे हुसैनी पर दोस्त के murder का केस दर्ज़

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद से वहां पर डर और खौफ की वजह से अफगानिस्तान से लोगों के देश छोड़कर भागने की कई तस्वीरें सामने आ रही हैं। तालिबान के आतंक के आतंक की वजह से वहां की महिलाएं ही नहीं, पुरुष भी, छोटे-बड़े, बच्चे-बूढ़े, सब डरे हुए हैं।

इस वजह से कई लोग देश से अपने परिवार के साथ जल्द से जल्द निकलना चाहते हैं। कई ऐसे वीडियो भी वायरल हुए जिसमें मां-बाप अपने बच्चों को दूसरे देश की सेनाओं को सौंपते दिख रहे हैं। तो वहीं कुछ लोग देश छोड़ने की जल्दबाजी में हवाईजहाज के टायर और विंग पर बैठ गए। इसी कड़ी में एक और हैरान कर देने वाला मामला अफगानिस्तान से सामने आ रहा है।

अफगानिस्तान में हत्या का आरोपी एक शख्स अब अफगानिस्तान छोड़कर भागना चाहता है। हैरानी की बात ये है कि ये शख्स 4 साल पहले अपने देश से सजा से बचने के लिए भागकर अफगानिस्तान आया था जिससे वो सजा पाने से बच जाए। 32 साल के इस आदमी का सईद हुसैनी है। इस पर अपने दोस्त डेजन डिमिट्रोवस्की को प्रताड़ित करने और जान से मारने का आरोप है।

साल 2017 से सईद कानून से छुपता फिर रहा है। खबर है कि सईद अपने भाई का पासपोर्ट लेकर ऑस्ट्रेलिया में अपने शहर पर्थ से भाग निकला था और अफगानिस्तान आकर नई जिंदगी बिताने लगा

डेली स्टार के रिपोर्ट के मुताबिक जैसे ही अफगानिस्तान पर तालिबानियों का कब्जा हुआ वैसे ही सईद खौफ के कारण अफगानिस्तान से भागने में लग गया। इस वक्त हजारों लोग काबुल एयरपोर्ट पहुंच रहे हैं ताकी वो तालिबान से भाग सकें उनमें से एक सईद भी है मगर वहां रेस्क्यू के लिए कोई फ्लाईट नहीं है।

हुसैनी के वकील ने ऑस्ट्रेलिया में अपने क्लाएंट की तरफ से अर्जी डाली है कि ऑस्ट्रेलिया लौटने के उसके अधिकार के तहत उसे देश लाने का इंतजाम किया जाए। उसके बाद कानून और अथॉरिटी जो भी सजा सुनाएंगे वो उसे मंजूर होगी। आपको बता दें कि ऑस्ट्रेलिया की सरकार अफगानिस्तान से अपने नागरिकों को सुरक्षित निकाल में लगी हुई है। फिलहाल सईद अफगानिस्तान में ही है और ये देखना है कि कब तक उन्हें अफगानिस्तान से ऑस्ट्रेलिया आने के लिए इंतजार करना पड़ेगा। डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक जैसे ही वो ऑस्ट्रेलिया में उतरेगा पुलिस उसके वैसे ही गिरफ्तार कर लेगी। हुसैनी के अलावा हत्या के मामले में तीन और लोगों को पहले ही गिरफ्तार कर उनको 9 से 10 साल की सजा सुनाई जा चुकी है। अब देखना है कि हुसैनी को वहां की कोर्ट कितने सालों की सजा सुनाती है।

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter