+

Uttarakhand Crime: अनाज की टंकी में लाश, दो दिनों तक लाश के साथ सोते रहे कातिल!

Roorkee Murder Case: रुढ़की के भगवानपुर एक मकान का मालिक रात के समय अचानक अपने किरायेदारों का हाल लेने पहुंचता है। इस वक्त किराएदार मकान में मौजूद नहीं थे लिहाजा मकान मालिक को कुछ शक होता है और वो घर के अंदर दाखिल हो जाता है। घर के अंदर पहुंचते ही अजीब सी गंध से मकान मालिक के कान खड़े हो जाते हैं।

गंध के बावजूद मकान मालिक घर में अंदर जाकर देखता तो अनाज की टंकी से खून बहकर बाहर आ रहा था। टंकी से बाहर बहता खून देखकर मकान मालिक के होश उड़ गए। गंध के बीच मकान मालिक ने जब टंकी में झांक कर देखा तो तो उसकी चीख निकल पड़ी। अनाज की टंकी में अनाज नहीं बल्कि अंदर एक नौजवान की लाश पड़ी थी।

टंकी में मिली लाश

लाश को देखने के साफ पता चल रहा था कि किसी धारदार हथियार से कत्ल किया गया था। दिल दहला देने वाला यह मंजर किसी भूतिया फिल्म का नहीं बल्कि हरिद्वार के भगवानपुर इलाके में हुई कत्ल की एक सनसनीखेज वारदात का है। घर में लाश मिलने की खबर मकान नमालिक को दी तो आधी रात पुलिस कप्तान अजय सिंह मौके पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली।

मौके पर एसपी देहात स्वप्न किशोर सिंह व कोतवाली प्रभारी अमरजीत सिंह समेत सभी आला अधिकारी युवक की शिनाख्त करने में जुट गए। काफी मशक्कत के बाद आख़िरकार युवक की पहचान नितिन भंडारी चोरी खाल पाबो, पौड़ी गढ़वाल के रूप में हुई। नितिन एनटीएल कंपनी में काम करता था। पुलिस अब नितिन के बगल में किराए के मकान में रहने वाले एक महिला और उसके पार्टनर की तलाश में जुट गई है।

अनाज की टंकी में लाश

बताया गया है कि 4 दिन पहले ही वह दोनों मकान खाली कर के कहीं चले गए हैं। पुलिस टीम आरोपियों की तलाश में दबिश दे रही है। एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि युवक के परिजनों को सूचना दे दी गई है। बहुत जल्द इस हत्याकांड का पर्दाफाश कर लिया जाएगा।

पुलिस अफसरों का कहना है कि युवक का शव करीब 4 दिन पुराना है। उसके सिर पर किसी धारदार चीज से हमला किया गया है। इसीलिए काफी ज्यादा खून बहा है। एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि भगवानपुर में थाने से कुछ दूरी पर एक कॉलोनी में तीन मंजिला मकान है। सिकंदर नामक एक व्यक्ति ने मकान किराए पर दिया हुआ था। इस घर में सभी आस-पास के फैक्ट्री में काम करने वाले कर्मचारी रहते थे। महिला और उसके पार्टनर की तलाश करने के साथ ही अन्य किरायेदारों को भी चिन्हित किया जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक ऊपरी मंजिल पर दो युवक और एक महिला रहती थी। पड़ोसियों के मुतिक दोनों युवक 26 तारीख को एक अनाज की टंकी लेकर आए थे। जानकारी के मुताबिक नितिन 27 तारीख को काम पर नहीं गया था यानि 27 को ही उसकी हत्या की गई थी। पुलिस अफसरों के मुताबिक नितिन के पड़ोसी 30 नवंबर को घर का ताला लगाकर फरार हो गए थे।

ऐसा लगता है कि आरोपियों ने हत्या के बाद दो दिनों तक लाश को ठिकाने लगाने की कोशिश की लेकिन जब लाश से गंध आने लगी तो वो शव छोड़कर फरार हो गए। यानि ये लोग दो दिनों तक लाश के साथ ही घर में मौजूद थे। पुलिस अफसरों का कहना है कि जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा तब पता चलेगा कि हत्या की वजह क्या थी।   

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter