+

UP News: गाजियाबाद के मंदिर में सन्यासी के भेष में घुसा संदिग्ध, पिस्तौल, चाकू और ब्लेड बरामद

Ghaziabad Crime: आरोप है कि एकला मंदिर में युवक समीर शर्मा के नाम से दाखिल हुआ था, सेवादारों ने शक होने पर युवक को पकड़ लिया तो पता चला कि उसका नाम आस मोहम्मद है।

गाजियाबाद से मयंक गौड़ की रिपोर्ट

Ghaziabad Crime News: गाजियाबाद (Ghaziabad) के एकला गांव में एक मंदिर (Temple) से संदिग्ध (Suspected) व्यक्ति को पकड़ा (Caught) गया हैं। पकड़े गए संदिग्ध शख्स का नाम आस मोहम्मद है। आरोपी के पास से पिस्टल, ब्लेड और चाकू अन्य आपत्तिजनक सामान बरामद किया गया है। मंदिर परिसर में रहने वाले महामंडलेश्वर ने शक जताया है कि आरोपी उनकी हत्या करने के इरादे से आया था।

मंदिर के महामंडलेश्वर प्रबुद्ध आनंद गिरी महाराज रहते हैं जिन्होंने अयोध्या और हरिद्वार में धर्म संसद की अध्यक्षता भी की थी। ऐसा माना जा रहै है कि तभी से वह जेहादियों के निशाने पर थे और मंडलेश्वर जी के मुताबिक उनकी गर्दन की कीमत जिहादियों ने करोड़ों रुपए लगाई हुई है।

आरोप है कि युवक सन्यासी के वेश में मंदिर में घुसा था और अपना नाम समीर शर्मा बता रहा था। युवक पर शक होने पर मंदिर के सेवादारों ने आरोपी को पकड़ लिया। पूछताछ हुई तो पता चला कि संदिग्ध शख्स मुस्लिम समुदाय का आस मोहम्मद है।

मन्दिर में मौजूद सेवादारों और हिन्दू संगठन से जुड़े लोगो के मुताबिक के इस शख्स को जिहादी संगठनों ने यहां भेजा था और महामंडलेश्वर जी की हत्या का जिम्मा दिया गया था। वहीं पकड़ा गया संदिग्ध किसी सलीम नामक शख्स से एक लाख रुपये लेकर यहां आने की बात कह रहा है। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि सलीम ने ही उसे पिस्टल मुहैया कराई है।

मन्दिर में एक महामंडलेश्वर की हत्या के लिए घुसे संदिध शख्स की सूचना के बाद पुलिस में हड़कंप मच गया। आनन फानन में स्थानीय पुलिस और पुलिस अधिकारी मौके पर पहुचे और संदिग्ध और उसके पास मिले सामान को कब्जे में लिया।

मौके पर पहुचे एसपी ग्रामीण इराज राजा के मुताबिक आज सुबह इकला के मंदिर से एक संदिग्ध व्यक्ति को सेवादारो ने पकड़ा था। आगे की पूछताछ और वैधानिक कार्रवाई जारी है। मन्दिर की सुरक्षा बढ़ाने और यहां आने वाले शख्स की आईडी चेक कर ही प्रवेश देने के आदेश दिए गए हैं।  

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter