+

Shraddha Murder: श्रद्धा की वो एक गलती और हो गए लाश के 35 टुकड़े!

Shraddha Murder Case: श्रद्धा की हत्या (Murder) के बाद पूरे देश में बहस छिड़ी हुई है कि क्या श्रद्धा की जान बचाई जा सकती है। जी हां सच तो यह है कि श्रद्धा थोड़ी सावधानी बरतती तो आज वो जिंदा होती। सच ये भी है कि श्रद्धा ने आफताब के नजदीक रहते हुए उसकी उन हरकतों को नजरअंदाज किया जो बेहद खतरनाक थीं।

लड़ाई के दौरान जब जबह ईफताब ने श्रद्धा पर हाथ उठाया उसको तभी समझ लेना चाहिए था कि ये शख्स बेहद खतरनाक है जो उसको नुकसान पहुंचता सकता है। मनोवैज्ञानिक भी मानते हैं कि अपने पार्टनर के वायलेंट रवैयै को नजरअंदाज करना बेहद खतरनाक हो सकता है। जैसा कि श्रद्धा की हत्या की शक्ल में सामने आया है।

दरअसल मारपीट और आफताब के व्यवहार के बाद श्रद्धा को चुप नहीं बैठना चाहिए था उसको दोस्तो और रिश्तेदारों को जरिए आफताब की काउंसलिंग करनी चाहिए थी। जरुरत इस बात की थी धीरे धीरे आफताब से दूरी बनाई जाती और करीबी दोस्तों को उसके व्यवहार की जानकारी साझा की जाती।

 ये तो जगजाहिर है कि आफताब की श्रद्धा की दोस्ती डेटिंग एप्प से हुई थी। डेटिंग एप्प से दोस्ती के बाद रिश्तों में थोड़ा संभल कर आगे बढ़ने की जरुरत थी। जाहिर है श्रद्धा के परिजनों ने भी इस रिश्ते से नाराजगी जाहिर की थी। श्रद्धा ने घरवालों की बात मानने से इनकार कर दिया बल्कि घरवालों को ही छोड़ दिया।

आफताब और श्रद्धा मई महीने में महरौली में एक फ्लैट में शिफ्ट हुए थे। इसके बाद दोनों के बीच 18 मई को झगड़ा हुआ था। आफताब ने गला दबाकर श्रद्धा की हत्या कर दी थी। इसके बाद उसके शव के 35 टुकड़े किए। फिर वो अगले एक महीने तक टुकड़ों को ठिकाने लगाता रहा।

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter