+

Shraddha Case : आज होगा आरोपी आफताब का नारको टेस्ट ! ड्रग्स तस्करों से आफताब के लिंक! तोष गांव तक पहुंची दिल्ली पुलिस

मुंबई से पारस दामा, दिल्ली से हिमांशु मिश्रा और चिराग गोठी के साथ अरविंद ओझा की रिपोर्ट

Shraddha Case : आफताब ने श्रद्धा के 35 टुकड़े किए थे और पुलिस ने 35 में से 17 टुकड़े बरामद कर लिए हैं। अब तैयारी है आफताब के नार्को टेस्ट की। सवाल तैयार हैं। एफएसएल की टीम पुलिस के सामने रहेगी और आफताब अपने गुनाह का सारा किस्सा सुनाएगा। उधर, आफताब के खिलाफ हिमाचल के तोष में जांच चल रही है। आफताब के ड्रग्स कनेक्शन की जांच चल रही है। इसी इलाके में कुछ दिन आफताब और श्रद्धा रुके थे। बताया जाता है कि आफताब गांजे का शौकीन था। आफताब के फोन से कई ड्रग्स तस्करों के नंबर मिले है।

पुलिस जो सवाल आफताब से पूछेगी वो है -

श्रद्धा के टुकड़ों को आफताब ने कहां ठिकाने लगाया ?

श्रद्धा का सिर कहां फेंका ?

श्रद्धा के कपड़े कहां फेंके ?

श्रद्धा को काटने वाले हथिय़ार कहां फेंके

देखना ये होगा कि इन सवालों के आफताब क्या जवाब देता है ? करीब 50 सवालों की लिस्ट तैयार है।

आफताब का नार्को टेस्ट अंबेडकर अस्पताल में होगा। टेस्ट के दौरान पुलिस के अधिकारियों के अलावा अस्पताल और फोरेंसिक साइंस लैब की टीम मौजूद रहेगी। ये नार्को टेस्ट रोहिणी स्थित फोरेंसिक साइंस लैब करेगी। इस दौरान 4 से 5 फोरेंसिक साइंटिस्ट मौजूद रहेंगी। इसकी वीडियो रिकॉर्डिंग भी FSL ही करती है।

नार्को टेस्ट होगा कैसे?

इसके तहत इंजेक्शन में साइकोएक्टिव दवा मिलाई जाती है, जिसे 'ट्रूथ ड्रग' भी कहते हैं। इसमें सोडियम पेंटोथल नाम का केमिकल होता है। ये केमिकल जैसे ही नसों में उतरता है, शख्स कुछ मिनट से लेकर लंबे समय के लिए बेहोशी में चला जाता है। बेहोशी से जागने के बाद वो आधी बेहोशी की हालत में चला जाता है। इस हालत में वो सब सच बोलता जाता है।

हालांकि, कुछ परिस्थितियों में इसे सबूत के तौर पर पेश किया जा सकता है।

उधर, जांच में साफ हुआ है कि श्रद्धा हत्याकांड में आरोपी आफताब को नशे का शौकीन था। पुलिस के मुताबिक आफताब ने माना है कि हत्या के वक्त भी वो नशे में था। हत्या के बाद भी उसने नशा किया, खाना मंगाया और बाद में फिल्म भी देखी। आफताब के खिलाफ हिमाचल के तोष में जांच चल रही है। आफताब के ड्रग्स कनेक्शन की जांच चल रही है। इसी इलाके में कुछ दिन आफताब और श्रद्धा रुके थे। आफताब के फोन से कई ड्रग्स तस्करों के नंबर मिले है।

बचपन से गुस्सैल था आफताब?
शेयर करें
Tags :
Whatsapp share
facebook twitter