+

Shraddha Case : लाश के टुकड़ों का रखता था हिसाब-किताब!

Shraddha Case : क्या पुलिस को मिल गए हैं श्रद्धा मर्डर केस के पूरे सबूत ? ये सवाल अभी तक बना हुआ है, लेकिन लगता है कि अभी तो पुलिस के लिए बहुत काम बाकी है।

हिमांशु मिश्रा और अरविंद ओझा के साथ चिराग गोठी की रिपोर्ट

Shraddha Case : क्या पुलिस को मिल गए हैं श्रद्धा मर्डर केस के पूरे सबूत ? ये सवाल अभी तक बना हुआ है, लेकिन लगता है कि अभी तो पुलिस के लिए बहुत काम बाकी है। ये केस धीरे धीरे दृष्यम फिल्म के अंजाम की तरफ बढ़ता दिखाई देने लगा है। अदालत के सामने पुलिस ने अपने रिमांड लेटर में लिखा था कि आफताब के पास से पुलिस को एक ऐसा नोट मिला है जिसमें वो लाश के टुकड़ों का सारा हिसाब किताब रखता था। यानी लाश के किस हिस्से को उसने कहां ठिकाने लगाया, इसके बारे में भी वो एक नोट में लिखता था।

यानी पुलिस की इस तफ्तीश की थ्योरी से ये भी साफ हो जाता है कि आफताब ने श्रद्धा का कत्ल गुस्से में अचानक नहीं किया था। आफताब ने श्रद्धा का कत्ल पूरी प्लानिंग के साथ किया था। आफताब ने कत्ल की प्लानिंग मई में ही कर ली थी। आफताब ने प्लानिंग के तहत मुंबई को छोड़ा था।

आफताब से एक सवाल बार-बार पूछा जा रहा था कि उसने श्रद्धा का कत्ल अचानक गुस्से में किया था या फिर सोच समझ कर इसकी प्लानिंग की थी। दिल्ली पुलिस सूत्रों की मानें तो इस सवाल पर आफताब लगातार झूठ बोल रहा है। यहीं से पुलिस को लगभग ये यकीन हो चला है कि आफताब ने श्रद्धा को अचानक गुस्से में नहीं मारा, बल्कि वो श्रद्धा के कत्ल की साजिश लंबे वक्त से बुन रहा था। अब सवाल यही उठता है कि आखिर ये श्रद्धा मर्डर केस कैसे फिल्म दृष्यम के अंजाम की तरफ बढ़ रहा है।

तो इस बात को कुछ ऐसे भी समझा जा सकता है कि पिछले 13 दिनों से पुलिस ने चार राज्यों में घूम घूमकर जो भी सबूत और सुराग इकट्ठा किए। क्या वो आरोपी को सज़ा की मंजिल तक पहुंचाने के लिए काफी हैं ? देश भर में लोग ये सब जान और मान चुके हैं कि आफताब ने ही श्रद्धा का गला दबाया। फिर उसकी लाश के 35 टुकड़े किए और फिर लाश के उन टुकड़ों को जंगल में फेंका, लेकिन अब सवाल यही है कि कहां कैसे और कब ? जिसका जब तक सटीक जवाब नहीं मिल जाता। ये कड़ियां यूं ही बिखरी रहेगी और शातिर आफताब यूं ही क़ानून को ठेंगा दिखाता रहेग

आफताब अंग्रेजी क्यों बोलता है ?
शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter