+

पाकिस्तान में सिद्धू मूसेवाला की लोकप्रियता को भुनाने की कवायद, चुनावी पोस्टर में दिखे पंजाबी सिंगर

Moose wala Murder Pakistan: पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या 29 मई को पंजाब के मानसा जिले में हुई थी। भारत में पंजाब से लेकर महाराष्ट्र तक में पुलिस (Police) इस मामले की गहराई से पड़ताल (Investigation) करने में जुटी हुई है। सिद्धू मूसेवाला के क़ातिलों की तलाश के लिए भारत के छह राज्यों की पुलिस चप्पा चप्पा खंगालने के लिए लगातार पसीना बहा रही है। लेकिन भारत के पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान (Pakistan) में सिद्धू मूसेवाला का सियासी फायदा (Political Millage ) उठाने कवायद होने लगी है।

ये बात जितनी अटपटी लग रही है उससे भी कहीं ज्यादा हैरतअंगेज है। क्योंकि इन दिनों पाकिस्तान की घरेलू सियासत में सिद्धू मूसेवाला की तस्वीरों का जमकर इस्तेमाल हो रहा है। और वो भी पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी पीटीआई के नेता इस पंजाबी सिंगर की लोकप्रियता को अपने हक में भुनाने की कोशिश में अब पसीना बहाते दिखाई पड़ने लगे हैं।

बीबीसी की खबरों पर यकीन किया जाए तो पाकिस्तान के पंजाब में उपचुनाव हो रहे हैं। इन चुनावों में इमरान खान की पार्टी के प्रत्याशी ज़ैन क़ुरैशी के चुनावी पोस्टर पर तमाम नेताओं के बीच सिद्धू मूसेवाला की तस्वीर भी झांकती दिखाई पड़ रही है। और ऐसा भी नहीं कि ये तस्वीर कहीं भीड़ का कोई हिस्सा भर हो...बल्कि पोस्टर को देखकर तो ऐसा लग रहा है कि सिद्धू मूसेवाला वहां का कोई बड़ा नेता है और वहां के स्थानीय नेताओं के मुकाबले उसकी तस्वीर को ज़्यादा प्रमुखता से दिखाया जा रहा है।

मूसेवाला के गीत '295' की लोकप्रियता को भुनाने की कवायद

Moose Wala Murder: ऐसे में अब ये बात पाकिस्तान में जबरदस्त चर्चा का विषय बन गई है। इमरान की पार्टी पीटीआई के ज़ैन क़ुरैशी मुल्तान के पी पी 217 से उम्मीदवारी पेश कर रहे हैं। और उनके चुनावी पोस्टर पर छपी सिद्धू मूसेवाला की एक तस्वीर वहां के चुनावी सभाओं और चुनावी चर्चा का मुख्य विषय बन गया है।

उसी पोस्टर में पीटीआई के कुछ बड़े नेताओं और पदाधिकारियों की भी तस्वीरें नज़र आ रही हैं। लेकिन उस पोस्टर में सिद्धू मूसेवाला की तस्वीर के साथ उनके सबसे मशहूर गीतों में से एक ‘295’ का भी ज़िक्र है। ये बात किसी से छुपी नहीं है कि सिद्धू मूसेवाला अकेले भारत में ही नहीं बल्कि पाकिस्तान के पंजाबी भाषी लोगों में खासे लोकप्रिय रहे हैं। खासतौर पर पाकिस्तान के नौजवानों में सिद्धू मूसेवाला के गीत काफी लोकप्रिय हैं। इतना ही नहीं सोशल मीडिया में भी सिद्धू मूसेवाला के गीतों को सुनने वालों में पाकिस्तानी दर्शकों की भी अच्छी खासी संख्या है।

ऐसे में ये सवाल ज़रूर खड़ा हो रहा है कि आखिर सिद्धू मूसेवाला की हत्या के एक महीने बाद अब उनकी लोकप्रियता को इमरान की पार्टी के उम्मीदवार ज़ैन क़ुरैशी क्यों भुनाने की कोशिश में लगे हुए हैं। साथ ही साथ ज़ैन कुरैशी के पोस्टर पर सिद्धू मूसेवाला की तस्वीर आखिर क्यों और किसने लगाई।

पीटीआई के उम्मीदवार ने पोस्टर के वायरल होने पर शुक्रिया कहा

Moose Wala Political Stunt: बीबीसी की खबर के मुताबिक इस बारे में जब पीटीआई के उम्मीदवार ज़ैन क़ुरैशी से जब इसकी वजह जानने की कोशिश की गई तो उन्होंने इसकी जानकारी होने से ही इनकार कर दिया। अपनी सियासी रैलियों का हवाला देते हुए ज़ैन क़ुरैशी ने बताया कि वो इन दिनों अपने राजनैतिक दौरों की वजह से काफी व्यस्त हैं लिहाजा उन्हें इस बात का इल्म ही नहीं है कि आखिर ये सब कैसे हो गया। हालांकि ये बात उन्होंने ज़रूर मानी है कि सोशल मीडिया पर उनके कुछ जानने वालों ने ऐसे पोस्टर की कुछ तस्वीरें ज़रूर साझा की थी, लेकिन उसे उन्होंने किसी का मज़ाक समझकर नज़रअंदाज कर दिया।

ज़ैन क़ुरैशी ने बीबीसी के संवाददाता को ये भी बताया कि उन्हें ये नहीं मालूम कि आखिर सिद्धू मूसेवाला की तस्वीर आखिर उनके पोस्टर पर कैसे आ गई। लेकिन ज़ैन क़ुरैशी ने ये बात खुले दिल से ज़रूर मानी कि इस एक तस्वीर ने उनके पोस्टर को जितना वायरल करके शोहरत दिलाई उतनी आज से पहले उन्हें कभी इतनी प्रसिद्धि कभी नहीं मिली। इसके लिए उन्होंने कहा कि वो उस शख्स का शुक्रिया भी अदा करना चाहते हैं जिसने मेरी कामयाबी के सिलसिले में इस पोस्टर को इस तरीके से वायरल करवाया।

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter