+

Firing In Nightclub: LGBT नाइटक्लब में चली अंधाधुंध गोलियां, पांच की मौके पर ही मौत

Crime In USA : अमेरिका में अब ये आम बात हो गई है, वहां कभी भी किसी भी शहर से किसी सिरफिरे की कोई न कोई फायरिंग (Firing) करने की ऐसी करतूत सामने आ जाती है जिससे अमेरिका के गन कल्चर (Gun Culture) को लेकर बहस तेज हो जाती है।

कोलाराडो स्प्रिंग्स के एक समलैंगिक नाइटक्लब (LGBT NIGHT CLUB) में 22 साल के एक बंदूकधारी के हमले में पांच लोगों की मौत हो गई, जबकि 18 अन्य घायल हो गए। बाद में इस बंदूकधारी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

कोलाराडो पुलिस के आला अफसर एड्रियन वासक्यूज के मुताबिक शनिवार रात को हुई इस गोलीबारी के बाद ‘क्लब क्यू’ से दो फायरआर्म्स बरामद किए गए हैं।

Firing In Nightclub:अल पासो काउंटी डिस्ट्रिक्ट अटार्नी माइकल एलेन ने बताया कि जांचकर्ता अब भी यह पता करने में जुटे हैं कि इस हमले के पीछे क्या मंशा थी। उनके अनुसार जांचकर्ता यह भी देख रहे हैं कि इस घटना के सिलसिले में नफरत आधारित अपराध के तौर पर मुकदमा चलाया जाए या नहीं।

Crime In USA : पुलिस ने बंदूकधारी की पहचान एंडर्सन ली आल्ड्रिच के रूप में की है जो हिरासत में है और उसका भी इलाज किया जा रहा है, क्योंकि वह भी घायल हो गया था।

Firing In Nightclub: साल 2021 में इसी नाम एवं इसी उम्र के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया था क्योंकि उसकी मां ने पुलिस में रिपोर्ट की थी कि उसने देशी बम, हथियारों से हमले की धमकी दी थी। पुलिस ने इस बात की पुष्टि नहीं की है कि क्या यह वही शख्स है। पुलिस ने बस इतना कहा कि वह यह जांच कर ही है कि क्या संदिग्ध को पहले भी गिरफ्तार किया गया है।

World Crime News: वासक्यूज ने बताया कि शनिवार रात 11 बजकर 57 मिनट पर क्लब क्यू में गोलीबारी की खबर मिली और आधी रात को अधिकारी वहां पहुंचे। उन्होंने कहा, ‘‘ कम से कम दो लोगों ने बंदूकधारी का सामना किया और उसे गोलीबारी करने से रोका। हम उनके शुक्रगुजार हैं।’’

Crime In USA : अधिकारियों ने कहा कि 18 घायलों में कुछ की हालत गंभीर है तथा दो को उपचार के बाद छुट्टी दे दी गयी। उनके अनुसार कुछ वहां से भागने के दौरान घायल हो गये। राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि गोलीबारी के पीछे की मंशा अभी सामने नहीं आ पायी है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमें पता है कि एलजीबीटीक्यू आई प्लस समुदाय को हाल के वर्षों में नफरत आधारित हिंसा का शिकार बनाया गया है। हमें उन असमानता को अवश्य ही हटाना होगा जिसकी वजह से एलजीबीटीक्यू आई प्लस के विरुद्ध हिंसा होती है, हमे नफरत को बर्दाश्त नहीं कर सकते।’’

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter