+

बिना डसे एक सांप ने ऐसे ले ली 34 लोगों की जान, मंडप की जगह श्मशान पहुँचे बाराती

Uttarakhand Bus Accident: क्या कोई सांप (Snake) किसी को बिना डसे दो दर्जन (Two Dozen) से ज़्यादा लोगों की जान ले सकता है। ये सवाल जितना अटपटा है उसका जवाब उससे भी ज्यादा हैरानी भरा। दरअसल उत्तराखंड (Uttarakhand) में पौड़ी गड़वाल के पास मंगलवार की देर शाम एक ऐसा ही हादसा (Accident) पेश आया जिसमें अब तक 34 लोगों की जान जा चुकी है। जबकि दो दर्जन करीब लोग अब भी अस्पताल (Hospital) में इलाज करवा रहे हैं।
हुआ यूं कि उत्तराखंड में बारातियों से भरी एक बस 500 मीटर गहरी खाई में जा गिरी। उस बस में 50 से ज़्यादा लोग सवार थे। जिनमें से 25 की तो मौके पर ही मौत हो गई और जबकि 9 लोगों की इलाज के दौरान मौत हो गई।
ये हादसा हरिद्वार के पास लालढांग से बीरोंखाल के पास हुआ जब कांडा तल्ला गांव जा रही बारातियों से भरी बस सिमड़ी के पास बेकाबू होकर 500 मीटर गहरी खाई में जा गिरी।
हालांकि पहाड़ी रास्तों पर अक्सर ऐसे हादसे होते हैं, जब बस ड्राइवर के कंट्रोल से बाहर निकल जाती है और हादसे का शिकार हो जाती है।

लेकिन यहां मामला थोड़ा जुदा था, क्योंकि ये बस इसलिए बेकाबू हुई क्योंकि बस के आगे चल रही कार के सामने से एक लंबा और बड़ा सांप गुजर गया। घबराहट और हैरानी में कार ड्राइवर ने अचानक तेजी से ब्रेक मार दिया। जिसकी वजह से उसके ठीक पीछे चल रही बस ने जैसे तैसे ओवरटेक करके बस को कार से टकराने से तो बचा लिया लेकिन रफ्तार की वजह से ड्राइवर बस को पूरी तरह से काबू में नहीं रख सका और बस सड़के के किनारे गहरी खाई में गिर गई।

हादसे के चश्मदीद ने कहा, पलक झपकते ही सब खत्म हो गया

Uttarakhand Bus Accident: इस हादसे का चश्मदीद गवाह बना है उसी बारात के दूल्हे का वो ड्राइवर जो कार चला रहा था। पूरे वाकये को याद करते हुए ड्राइवर इतना कहकर फफकने लगता है कि बस आखिर कैसे बेकाबू होकर खाई में जा गिरी इसके बारे में तो वो कुछ नहीं कह सकता मगर ये सब कुछ बस पलक झपकते ही हो गया और सब कुछ खत्म हो गया।
इस पूरे वाकये का एक और बड़ा चौंकानें और हैरान करने वाला पहलू ये भी था कि जहां हादसा हुआ वहां से दुल्हन का घर यानी वो जगह जहां बारात को पहुँचना था, वो महज एक किलोमीटर ही दूर थी।
इस हादसे के चश्मदीद ड्राइवर की बातों पर यकीन किया जाए तो उसकी कार में दूल्हे के अलावा दूल्हे की बहन, दूल्हे की भाभी और पंडित सवार थे। लेकिन सिमड़ी के पास अचानक सड़क पर जैसे ही सांप नज़र आया तो उसकी जान बचाने के चक्कर में ड्राइवर ने कार में ब्रेक लगा दिया।

ये सब कुछ इतनी तेजी से हुआ कि ठीक पीछे चल रही बस के ड्राइवर को संभलने का कोई मौका तक नहीं मिला। और कार से आगे निकलकर बस महज 500 मीटर दूर जाकर ही गहरी खाई में गिर गई। इस हादसे को अपनी आंखों से देखकर कार में बैठे दूल्हा और दूसरे रिश्तेदारों की चीख निकल पड़ी। लेकिन जब वहां जाकर खाई में झांककर देखा तो वहां कुछ नज़र नहीं आया।

रात में ही शुरू हुआ रेस्क्यू ऑपरेशन

Uttarakhand Bus Accident: कुछ देर तक तो किसी को कुछ समझ में ही नहीं आया लेकिन थोड़ी ही देर में चीख पुकार मच गई और देखते ही देखते बारातियों से भरी बस के खाई में गिरने की खबर दुल्हन के घर और गांव तक भी पहुँच गई।
सूरज ढल चुका था और चारो तरफ अंधेरा फैल गया था, इसके बावजूद आस पड़ोस के लोगों और स्थानीय लोगों की मदद से गहरी खाई में उतरकर राहत और बचाव का काम शुरू किया जा सका। स्थानीय प्रशासन भी रात में ही मौका-ए-वारदात पर पहुँच गया और देर रात वहां रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू कर दिया गया।

जिसका नतीजा ये हुआ कि 21 घायलों को अस्पताल पहुँचाया जा सका। हालांकि उनमें से 9 बुरी तरह जख़्मी लोगों ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। और कुछ और लोगों की हालत बेहद नाजुक बताई जा रही है। लेकिन इस हादसे में मौके पर ही 25 लोगों की मौत हो गई थी।

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter