+

विस्थापित हिन्दू परिवारों के कच्चे मकानों पर बुलडोजर चलवाने वाली टीना डाबी के खिलाफ होगा पक्का एक्शन!

tina dabi faces backlash: जानी मानी नौकरशाह और प्रशासनिक अधिकारी टीना डाबी के खिलाफ राजस्थान की सरकार एक्शन ले सकती है। टीना डाबी ने पाकिस्तान के विस्थापित हिन्दू परिवारों के टैंटों को जमींदोज करवा दिया था।
featuredImage

tina dabi faces backlash: नौकरशाह टीना डाबी एक बार फिर सुर्खियों में हैं लेकिन इस बार सुर्खियों में आने का मतलब ये नहीं कि वो किसी अच्छे काम की वजह से चर्चा में है बल्कि इस बार उनका एक फैसला और फैसले पर लिये गए एक्शन की वजह से टीना डाबी का नाम लोगों की जुबान पर छाई हुई हैं। दरअसल राजस्थान के जैसलमेर जिले से करीब चार किलोमीटर दूर अमर सागर इलाके में रह रहे कुछ परिवारों के मकानों को जमीदोज कर दिया गया। 

सरकार लेगी दोषी अफसरों के खिलाफ एक्शन

बताया जा रहा है कि अमर सागर इलाके में पाकिस्तान से आए कुछ हिन्दू परिवार रहते थे। लेकिन कलेक्टर टीना डाबी के एक आदेश के बाद उन परिवारों के मकानों को ढहा दिया गया। इस कार्रवाई के बाद अचानक राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार एक्शन में आती दिखाई दे रही है। बताया जा रहा है कि इस मामले में राजस्थान सरकार में मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने एक बयान जारी किया है। उनका कहना है कि जिन अधिकारियों ने ऐसा किया है उन्हें इसका जवाब देना होगा। इतना ही नहीं जिन अधिकारियों ने गलत किया है उनके खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी। 

जैसलमेर की खाली जमीन पर खल रहे थे हिन्दू परिवार

असल में पाकिस्तान से आए कुछ हिन्दू परिवार जैसलमेर की खाली जमीन पर रह रहे थे। राजस्थान सरकार ने उन परिवारों को दस्तावेज भी मुहैया करवाए गए थे। राजस्थान सरकार का कहना है कि किसी को भी पुनर्वसित किए बिना उन्हें बेदखल नहीं किया जा सकता। ऐसे में ये मामला बेहद गंभीर हो जाता है। और इसके लिए अफसरों के खिलाप कार्रवाई तक की जा सकती है। 

विस्थापित परिवारों के टेंट और तंबुओं को गिराया

गौरतलब है कि जैसलमेर जिले से करीब चार किलोमीटर दर अमर सागर इलाके में पाकिस्तान से विस्थापित परिवारों के टेंट और तंबुओं को कलेक्टर टीना डाबी के आदेश के बाद गिरा दिए गए। यूआईटी ने 50 से ज़्यादा मकानों को अतिक्रमण का आरोप लगाते हुए बुलडोजर और जेसीबी की मदद से गिरा दिया गया। 

150 से ज़्यादा लोगों के सिर से छीनी छत

टीना डाबी के इस फैसले के बाद लिए गए एक्शन की वजह से करीब 150 से ज़्यादा महिलाएं, पुरुष और बच्चे अब खुले आसमान के नीचे रहने को मजबूर हैं। उनके सिर से छत छिन गई है। इस सिलसिले में प्रशासन का कहना है कि पाकिस्तान से आए हिन्दू विस्थापितों ने अमर सागर तालाब के किनारे अवैध मकान बनाए थे। इसकी वजह से तालाब का पानी रुक गए। इतना ही नहीं कहा तो यहां तक जा रहा है कि जिस जमीन पर ये परिवार रह रहे थे उसकी क़ीमत बहुत ज्यादा है। 

शेयर करें
Whatsapp share
facebook twitter